महामृत्युंजय मंत्र: जानिए कैसे रचा गया महामृत्युंजय मंत्र?

महा मृत्युंजय मंत्र भगवान शिव का प्रभावशाली मंत्र है। यह भारतीय पौराणिक कथाओं और आध्यात्मिकता में प्राचीन और सबसे महत्वपूर्ण मंत्रों में से एक है। कई पुराणों में महामृत्युंजय मंत्र के लाभों का वर्णन किया गया है।

ऐसे कई मंत्र हैं जो भगवान शिव को समर्पित हैं, लेकिन महामृत्युंजय मंत्र शीर्ष स्थान रखता है उनमें से एक है। महामृत्युंजय मंत्र भगवान महाकाल को प्रसन्न करने के लिए है यानी। भगवान शिव और उनसे अकाल मृत्यु का वरदान पाने के लिए। मंत्र जाप से भक्तों को असाध्य रोगों से मुक्ति भी मिलती है।

महामृत्युंजय शब्द हिंदी भाषा के तीन शब्दों से मिलकर बना है। हिन्दी शब्द ‘महा’, जिसका अर्थ है महान। ‘मृत्युंजय’ का अर्थ है मृत्यु। और ‘जया’ का अर्थ है जीत। जिसका अर्थ है मृत्यु पर विजय।

इस मंत्र की उत्पत्ति की एक कथा है, जो भगवान महाकाल की कृपा से जुड़ी है। इसे शैव संप्रदाय में शिव के साथ पहचाना जाता है, जिसे त्रयंबकम मंत्र भी कहा जाता है। यह भगवान शिव के रुद्र अवतार को संबोधित करता है। यह महान मृत्यु-विजय मंत्र, ऋग्वेद का प्रसिद्ध और सिद्ध श्लोक भी है। इस मंत्र को मृत संजीवनी के रूप में जाना जाता है।

मूल कथा महा मृत्युंजय मंत्र

इसकी स्थापना ऋषि मार्कंडेय ने की थी और इसे भगवान शिव ने दिया था। इसके पीछे एक छोटी सी कहानी है-

महामृत्युंजय मंत्र की रचना करने वाले मार्कंडेय ऋषि तपस्वी और उग्र मृकंद ऋषि के पुत्र थे। बहुत तपस्या के बाद मृकुंड ऋषि को एक पुत्र का जन्म हुआ लेकिन बच्चे के लक्षण को देखकर ज्योतिषियों ने उसकी आयु केवल 12 वर्ष बताई।

जब मार्कंडेय 5-7 साल के थे, तब उनके पिता ने उन्हें उनकी कम उम्र के बारे में बताया। साथ ही शिव की उपासना का मंत्र देते हुए कहा कि शिव आपको मृत्यु के भय से मुक्त कर सकते हैं। तब बालक मार्कंडेय शिव मंदिर में बैठकर शिव की पूजा करने लगे।

जब मार्कंडेय की मृत्यु का दिन आया, तो यमराज के दूत उसे लेने आए। लेकिन मन्त्र के प्रभाव से बालक के पास जाने का साहस नहीं जुटा पाया। उन्होंने जाकर यमराज को सूचना दी। इस पर यमराज खुद मार्कंडेय को लेने आए।

यमराज की रक्तरंजित आँखें, भयानक रूप, भैंस की सवारी और हाथ में लूप देखकर बालक मार्कंडेय डर गए और उन्होंने रोते हुए शिवलिंग को गले से लगा लिया।

उसी समय स्वयं भगवान शिव प्रकट हुए। वह क्रोधित हो गया और यमराज से कहा- तुमने मेरी शरण में बैठे भक्त को दंड देने का विचार भी कैसे किया?

इस पर यमराज ने कहा- हे प्रभु, मुझे क्षमा करें। और वहाँ से चला गया। इस कथा का वर्णन मार्कण्डेय पुराण में मिलता है।

ऐसे में इस मंत्र की उत्पत्ति की कथा है, जो भगवान महाकाल की कृपा से जुड़ी है।

महा मृत्युंजय मंत्र के लाभ

शिवपुराण के अनुसार इस मंत्र का जाप करने से मनुष्य की सभी बाधाएं और परेशानियां दूर हो जाती हैं। महामृत्युंजय मंत्र जीवन भर चलने वाला मंत्र सिद्ध होने के साथ-साथ सभी नकारात्मक और बुरी शक्तियों को दूर करता है। इसलिए इसे ‘मोक्ष मंत्र’ के रूप में जाना जाता है

आइए जानते हैं महामृत्युंजय मंत्र के हीलिंग फायदे।

  • महा मृत्युंजय मंत्र के लाभ व्यक्ति को मृत्यु पर विजय प्राप्त हो सकती है। यह मंत्र मृत संजीवनी है। जो भी व्यक्ति लंबी आयु प्राप्त करना चाहता है उसे नियमित रूप से इसका जाप करना चाहिए। इस मंत्र के प्रभाव से मनुष्य की अकाल मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है।
  • महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करने से मांगलिक दोष, नाड़ी दोष, कालसर्प दोष, भूत-प्रेत दोष, रोग, दुःस्वप्न और कई दोषों का नाश होता है।
  • इसका प्रतिदिन जाप करने से भगवान शिव की कृपा सदैव बनी रहती है और हर मनोकामना पूर्ण होती है।
  • किसी भी प्रकार के रोग से मुक्ति पाने के लिए और स्वप्न में अशुभ संकेत देखने पर शुभ फल पाने के लिए सौ लाख मंत्रों का जाप करें।
  • महा मृत्युंजय मंत्र का सबसे आश्चर्यजनक लाभ धन और हानि में है। जो जीवन का विस्तार करते हैं।
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जन्म, मास, गोचर और ग्रहों की वक्री दशा, आंतरिक अवस्था, स्थूल अवस्था आदि में योग हो तो महामंत्र का जाप करना लाभकारी होता है।
  • सनातन धर्म में महामृत्युंजय मंत्र को प्राण रक्षक और महामोक्ष मंत्र कहा गया है।
  • पुत्र प्राप्ति की इच्छा रखने वाले दंपत्तियों को इस महामंत्र का प्रतिदिन सुबह-शाम पाठ करना चाहिए।
  • महामृत्युंजय मंत्र का जाप हमेशा शुभ होता है। अगर परिवार में किसी को कोई लाइलाज बीमारी हो जाती है या जब उसके बचने की संभावना बहुत कम होती है।
  • एक धार्मिक मान्यता है कि महामृत्युंजय मंत्र के जाप से भगवान शिव जिनके तीसरे नेत्र का जन्म तपस्या और ध्यान की शक्तियों से होता है। यह आध्यात्मिक जागरूकता का अनुभव देता है।
  • किसी प्रकार के संकट की आशंका होने पर भी महामृत्युंजय मंत्र का जप करना लाभकारी होता है और आप मानव हानि या झूठे आरोप से पीड़ित हैं।

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

महामृत्युंजय मंत्र का जाप कैसे करें

  • महामृत्युंजय मंत्र का उच्चारण पूर्णतः शुद्ध होना चाहिए।
  • इस मंत्र का जाप करने का सबसे अच्छा समय सुबह 4-6 बजे के बीच है।
  • प्रतिदिन एक निश्चित संख्या में जप करें। पिछले दिन किए गए मंत्रों से अगले दिनों में काममंत्रों का जाप न करें।
  • महामृत्युंजय मंत्र का उच्चारण होठों से नहीं निकलना चाहिए।
  • जब तक महामृत्युंजय मंत्र का जाप चल रहा है तब तक धूप और दीप जलाते रहना चाहिए।
  • पूर्व की ओर मुख करके महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।
  • मूर्ति, चित्र, शिवलिंग या महामृत्युंजय यंत्र को पास में रखना अनिवार्य है।
  • महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते समय दूध से शिवलिंग का अभिषेक करते रहना चाहिए।
  • रुद्राक्ष की माला से महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। रुद्राक्ष भगवान शिव का प्रतिनिधित्व करता है।
  • नीचे गौमुखी में माला होनी चाहिए। जब तक जप की संख्या पूरी न हो जाए, तब तक गौमुखी से माला न निकालें।

Add a Comment

Your email address will not be published.