यहां बताया गया है कि कैसे शरद पूर्णिमा का चंद्रमा 16 चरणों में पृथ्वी पर अमृत की वर्षा करता है

Here’s how Sharad Purnima moon showers nectar on the earth consisting of 16 phases

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं। शरद पूर्णिमा को हरियाणा और कुछ अन्य क्षेत्रों में महारास पूर्णिमा के रूप में जाना जाता है, जबकि उत्तर मध्य भारत में इसे कोजागर पूर्णिमा के रूप में भी जाना जाता है।

वैसे तो साल में बारह पूर्णिमा का अपना अलग शास्त्रीय और पौराणिक महत्व होता है, लेकिन हमारे शास्त्रों में शरद पूर्णिमा को विशेष महत्व दिया गया है।

यह इस रात है कि चंद्रमा सोलह चरणों से बना है, पृथ्वी की कक्षा के बहुत करीब आता है और अमृत की वर्षा करता है। इसलिए इस दिन किए गए सभी कार्य भी बहुत सफल होते हैं।

इस दिन समुद्र मंथन से भगवती लक्ष्मी का प्राकट्य हुआ था।

श्रीमद्भागवत महापुराण के अनुसार इस रात से एक वर्ष तक भगवान श्रीकृष्ण ने वृंदावन के निकुंज वन में महारास किया था।

ऐसी मान्यता है कि अगर पूरी रात सोने के बाद माता लक्ष्मी की पूजा की जाए तो इसमें कोई शक नहीं कि व्यक्ति के जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं होती है।

कहा जाता है कि इस रात भगवती लक्ष्मी पृथ्वी पर विचरण करती हैं और कहती हैं, “को जाग्रत:?”
यानी कौन जाग रहा है? और जो लोग जागकर देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं, उन्हें मां की कृपा से जीवन में सभी प्रकार के भौतिक सुख, धन और धन की प्राप्ति होती है।

इस रात के वैदिक और तांत्रिक महत्व के कारण अगर आप इस रात कुछ खास उपाय करते हैं तो बड़ी से बड़ी बीमारी, दोष, दुख और दरिद्रता से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं, तो आज हम आपको कुछ ऐसे ही बताने जा रहे हैं। कुछ विशेष उपायों के बारे में जिन्हें अपनाकर चमत्कारी चमत्कारी लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं:-

शरद पूर्णिमा की शाम को प्रदोष काल में कमल के फूल से देवी लक्ष्मी की पूजा और श्रीसूक्त, कनकधारा स्तोत्र, दरिद्रीदहन शिव स्तोत्र और शिव तांडव स्तोत्र का पाठ करके कुबेर की पूजा करके श्रीसूक्त द्वारा घर में करने से दरिद्रता और स्थिर लक्ष्मी का नाश होता है। प्राप्त होना।

शरद पूर्णिमा के प्रदोष काल में कमल के फूल से देवी लक्ष्मी की पूजा और श्रीसूक्त, कनकधारा स्तोत्र, दरिद्रीदान शिव स्तोत्र और शिव तांडव स्तोत्र का पाठ करके कुबेर की पूजा करने और श्रीसूक्त द्वारा घर करने से दरिद्रता पूरी तरह से नष्ट हो जाती है, और स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। ऐसा होता है।

पीले कपड़े में कुछ कमल के गट्टे बांधकर उस पर पांच केसर आधारित अष्टगंध का तिलक लगाने से कुबेर और लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है।

कमल गट्टे की जगह कौड़ी का भी प्रयोग किया जा सकता है।

इस दिन एक या आठ कन्याओं को खीर का भोग लगाकर अधिक से अधिक दक्षिणा देने से लक्ष्मी की विशेष कृपा होती है।

पीपल के पांच पत्ते लें, उस पर खीर रखकर रात भर छोड़ दें और सुबह 11 बार श्रीकृष्ण आरोग्य मंत्र का जाप करें और सूर्योदय से पहले इसका सेवन करें, इससे दमा और अन्य वात रोगों में आश्चर्यजनक लाभ मिलता है।

जिन बच्चों को जन्म से ही कोई नेत्र रोग है, या किसी व्यक्ति को चकाचौंध की बीमारी है तो उस बच्चे या व्यक्ति को पांच से सात मिनट तक चंद्रमा पर निगाहें टिकाए रखें, उसके बाद कम से कम पान पर रखने के बाद पलक झपकने का प्रयास करें। बच्चे को खीर चाटें और यदि कोई छोटा है तो पान की जगह पीपल के पत्ते का प्रयोग करें, फिर पांच से सात मिनट तक चंद्रमा को निहारें, उसके बाद अगले दिन सूर्योदय के बाद त्रिफला चूर्ण को पानी में डालकर स्प्रे से आंखों को धो लें। . विकार दूर होगा।

यदि नींद न आने की समस्या हो तो किसी पीपल के पत्ते पर खीर रख कर ठीक आधी रात तक एक घंटे के लिए चंद्रमा के सामने रख दें, उसके बाद उक्त मंत्र से उस खीर को 21 बार सक्रिय करें-

निद्रा भगवती विष्णु:
अतुल तेजस: भगवान: नमामि
इसका 21 बार जाप करें और उस खीर का सुबह सूर्योदय से पहले सेवन करें और सूर्योदय से पहले स्नान करें, बहुत लाभ होगा।

दाद, खाज, खुजली या गांठ हो तो चन्द्र देव के सामने छत पर 21 दीपक जलाकर उसका काजल इकट्ठा करके प्रतिदिन उस स्थान पर लगाएं और आधे घंटे बाद स्नान कर लें, समस्या दूर हो जाएगी। 5 से 7 दिनों में दूर।

जिन लोगों की आंखों की रोशनी कमजोर होती है या आंखों में कोई समस्या होती है, अगर वे चंद्रमा की रोशनी में सुई धागा करते हैं, तो 1 महीने तक त्राटक क्रिया करने का लाभ एक रात में मिलता है और आंखों के दर्द में लाभ होता है।

शरद पूर्णिमा
19 अगस्त 2021 दिन मंगलवार
पूजा – लक्ष्मी, कुबेर देवदी
शुभ मुहूर्त – शाम 07.13 से 09.09 बजे तक।
सत्यनारायण कथा और पूजन 20 अक्टूबर 2021 को संपन्न होगा।

Also Read in English: Here’s how Sharad Purnima moon showers nectar on the earth consisting of 16 phases

Add a Comment

Your email address will not be published.