भाई दूज 2021: ये है भाई दूज का महत्व और मुहूर्त

भाई दूज के दिन भाई-बहन के बंधन को मनाया जाता है और इसे भाई टीका भी कहा जाता है। आइए अब हम इस त्योहार के इतिहास, महत्व और अनुष्ठानों के बारे में जानें।

Bhai Dooj 2021: Here’s significance and Muhurta of Bhai Dooj

अगर आप सोच रहे हैं कि भाई दूज क्या है तो हमने इस खूबसूरत त्योहार के बारे में कुछ तथ्य सूचीबद्ध किए हैं। यह दिन भाइयों और बहनों के बीच के बंधन को मनाता है और भारत में इसे भाई टीका भी कहा जाता है। इस दिन का सार यह है कि यह भारत में एक भाई और बहन के बीच प्रेम की पवित्रता के महत्व को दर्शाता है। यह त्योहार उत्तर-भारतीय परिवारों के लोगों के लिए एक बहुप्रतीक्षित त्योहार है।

इस दिन के पीछे प्रसिद्ध किंवदंतियाँ हैं क्योंकि हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार यह एक शुभ दिन है जब भगवान कृष्ण अपनी बहन सुभद्रा से राक्षस नरकासुर को मारने के बाद मिले थे। उनकी बहन ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया और खास अंदाज में उनका स्वागत कर इस मौके को खास बना दिया। सुभद्रा ने अपने भाई कृष्ण के माथे पर औपचारिक “तिलक” भी लगाया और इसलिए “भाई दूज” का त्योहार शुरू हुआ। मृत्यु के देवता यम और उनकी बहन यमुना की एक और कहानी। ऐसा माना जाता है कि वह अमावस्या के दूसरे दिन द्वितीया को अपनी बहन से मिले थे। इस बैठक के बाद – इस अवसर को “यमद्वित्य” या “यमद्वितीय” के रूप में मनाया जाने लगा।

भाई दूज “भाई” से बना है जिसका अर्थ है भाई और “दूज” का अर्थ है अमावस्या के बाद दूसरा दिन। यह दिन महत्वपूर्ण है और भाइयों और बहनों के जीवन में अत्यंत महत्व रखता है। यह एक अनमोल दिन है क्योंकि यह उनके बीच इस शुद्ध बंधन का जश्न मनाता है।

बहन इस दिन अपने भाई को आमंत्रित करती है और फिर वह अपने भाई के लिए कुछ मिठाई बनाती है। वह कुछ चावल और केसर के टुकड़े के साथ अपने भाई के माथे पर तिलक लगाती है और फिर वह अपने भाई के लंबे, स्वस्थ और समृद्ध जीवन के लिए भगवान से प्रार्थना करती है। बदले में भाई उसे उपहार देता है और हमेशा के लिए उसकी रक्षा करने की जिम्मेदारी भी वहन करता है।

यह अवसर भारत में दिवाली त्योहार के दो दिन बाद होता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार यह पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को पड़ता है। वर्ष 2021 के लिए भैया दूज का त्योहार शनिवार, 6 नवंबर को पड़ता है।

हैप्पी भैया दूज आपको मेरे भाई! आज मैं आपको एक लिफाफे में लपेटकर ढेर सारा प्यार और आशीर्वाद भेज रहा हूं। तिलक के रूप में आपके लिए बहन की प्रार्थना प्राप्त करने के लिए खुला।

हर गुजरते दिन के साथ हमारा खूबसूरत रिश्ता और मजबूत होता जाए। आप हमेशा मुझे उपहार और प्यार देते हैं। हैप्पी भाई दूज!
यह भाई दूज आपके जीवन में अपार खुशियाँ और सफलता लाए भाई। आपको भाई दूज की बहुत बहुत शुभकामनाएं! लव यू भाई क्योंकि आपके दिल में मेरे लिए जो प्यार है, उसकी जगह कोई नहीं ले सकता।

जब आप भाई-बहन के रिश्ते के बारे में सोचते हैं, तो आप भावनात्मक कोण से जा सकते हैं या इसमें कुछ मजेदार तत्व जोड़ सकते हैं। यह आपके द्वारा साझा किए गए बॉन्ड पर निर्भर करता है। यहां हमने कुछ गानों को क्यूरेट किया है जो आपके भाई-बहन के लिए आपकी भावनाओं से मेल खाएंगे। पूरे त्यौहार में एक भाई द्वारा अपनी बहन की रक्षा करने की प्रतिज्ञा को दर्शाया गया है जबकि एक बहन सर्वशक्तिमान से प्रार्थना करती है और अपने भाई की भलाई के लिए आशीर्वाद देती है।

भाईदूज को ‘यम द्वितीया’ भी कहा जाता है
ऐसा कहा जाता है कि भगवान कृष्ण ने अपनी प्रिय बहन सुभद्रा के साथ नरकासुर का वध करने के बाद वापस लौटते समय राक्षस का वध किया था। सुभद्रा ने विजय और आशीर्वाद के निशान के रूप में उनके माथे पर सिंदूर (कुमकुम) का टीका लगाकर उनका स्वागत किया। इस दिन को ‘यम द्वितीया’ के नाम से भी जाना जाता है।

भाईदूज का शुभ मुर्हूत
शुभ चौघड़िया मुहूर्त में भाई को टीका लगाने के लिए शनिवार, 6 नवंबर, सुबह 8 से 9 बजे के बीच का समय उत्तम रहेगा। दोपहर 12 बजे से 4 बजे के बीच चर लाभ और अमृत का शुभ चौघड़िया मुहूर्त रहेगा।

रक्षाबंधन की तरह से त्योहार भी भाई-बहन के लिए बेहद खास होता है। भाईदूज पर बहनें भाइयों के माथे पर तिलक लगाती है और सुख-समृद्धि व खुशहाली की कामना करती हैं। इस दिन यमुना में डुबकी लगाने की परंपरा है। यमुना में स्नान करने का बड़ा ही महत्व इस दिन बताया गया है।

पूजन विधि
सुबह उठकर स्नान कर तैयार हो जाएं। सबसे पहले बहन-भाई दोनों मिलकर यम, चित्रगुप्त और यम के दूतों की पूजा करें तथा सबको अर्घ्य दें। इसके बाद बहन अपने भाई को घी और चावल का टीका लगाती हैं। फिर भाई की हथेली पर सिंदूर, पान, सुपारी और सूखा नारियल यानी गोला भी रखती हैं। फिर भाई के हाथ पर कलावा बांधा जाता है और उनका मुंह मीठा किया जाता है। इसके बाद बहन अपने भाई की लंबी उम्र की कामना करती है।

भाईदूज की कथा
भगवान सूर्य नारायण की पत्नी का नाम छाया था। उनकी कोख से यमराज तथा यमुना का जन्म हुआ था। यमुना यमराज से बड़ा स्नेह करती थी। वह उससे बराबर निवेदन करती कि इष्ट मित्रों सहित उसके घर आकर भोजन करो। अपने कार्य में व्यस्त यमराज बात को टालता रहा। कार्तिक शुक्ला का दिन आया। यमुना ने उस दिन फिर यमराज को भोजन के लिए निमंत्रण देकर, उसे अपने घर आने के लिए वचनबद्ध कर लिया।

यमराज ने सोचा कि मैं तो प्राणों को हरने वाला हूं। मुझे कोई भी अपने घर नहीं बुलाना चाहता। बहन जिस सद्भावना से मुझे बुला रही है, उसका पालन करना मेरा धर्म है। बहन के घर आते समय यमराज ने नरक निवास करने वाले जीवों को मुक्त कर दिया। यमराज को अपने घर आया देखकर यमुना की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उसने स्नान कर पूजन करके व्यंजन परोसकर भोजन कराया। यमुना द्वारा किए गए आतिथ्य से यमराज ने प्रसन्न होकर बहन को वर मांगने का आदेश दिया।

यमुना ने कहा कि भद्र! आप प्रति वर्ष इसी दिन मेरे घर आया करो। मेरी तरह जो बहन इस दिन अपने भाई को आदर सत्कार करके टीका करें, उसे तुम्हारा भय न रहे। यमराज ने तथास्तु कहकर यमुना को अमूल्य वस्त्राभूषण देकर यमलोक की राह की। इसी दिन से पर्व की परम्परा बनी। ऐसी मान्यता है कि जो आतिथ्य स्वीकार करते हैं, उन्हें यम का भय नहीं रहता। इसीलिए भैयादूज को यमराज तथा यमुना में स्नान कर पूजन किया जाता है।

Add a Comment

Your email address will not be published.