My voice

जोधपुर का स्वयंभू पंचमुखी हनुमान मंदिर, यहां सभी पीड़ा हर लेते हैं बजरंग बली

Published by
CoCo

हनुमान चालीसा में जिक्र है कि अगर आप बहुत अधिक संकट में हैं तो 8 मंगलवार हनुमान जी के दर्शन कर ले तो आपके सारे संकट दूर हो जाएंगे। जोधपुर के एक प्राचीन पंचमुखी हनुमान मंदिर हैं। इस मंदिर की विशालकाय प्रतिमा के बारे में कहा जाता है कि यह स्वयंभू हैं और पंचमुखी हनुमान (Swayambhu Panchmukhi Hanuman) जी के दर पर जो भी मत्था टेक ले उसके सभी कष्ट व पीड़ा हनुमान जी हर लेते हैं। इस मंदिर में श्रद्धालु साल के सालों भी आते हैं, लेकिन मंगलवार और शनिवार को श्रद्धालुओं का भारी जमावड़ा रहता है।

100 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती है

मंदिर तक पहुंचने के लिए करीब 100 सीढ़ियां चढ़नी होती हैं। यहां पर पहुंचने के लिए सकरी गलियों से गुजरना होता है। संकरी गलियों से गुजरते समय ब्लू सिटी का भी नजारा देखने को मिलेगा।

इस मंदिर की स्थापना जोधपुर की स्थापना से पहले हुई थी। यहां विशालकाय पंचमुखी हनुमान जी की विशाल प्रतिमा के पांव के नीचे पाताल की देवी की भी प्रतिमा है।

इस पंचमुखी हनुमान मंदिर के प्रति लोगों की आस्था ऐसी है कि वह किसी भी बीमारी में हों या किसी भी उम्र में हों, वह मंदिर जरूर आते हैं और मंदिर आकर उन्हें ऐसी शांति मिलती है, जैसे उन्होंने सब कुछ पा लिया हो। इस मंदिर में हनुमान जी को गुड़ का भोग लगाया जाता है। साथ ही पान का बीड़ा हनुमान जी को चढ़ाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि बीड़ा चढ़ाने से जो भी श्रद्धालु आया है, उसकी रक्षा का बीड़ा स्वयं हनुमानजी उठा लेते हैं और उसका बेड़ा पार हो जाता है।

पंचमुखी अवतार की कथा

हनुमान जी ने पंचमुखी अवतार क्यों लिया था? इस अवतार को वामन अवतार भी कहा जाता है। इसके पीछे भी एक कहानी है जो धार्मिक ग्रंथों, रामायण और इतिहास में दर्ज है। भगवान राम व रावण के बीच युद्ध चल रहा था, उस दौरान रावण का एक और भाई अहिरावण जो कि पाताल में निवास करता था, भगवान श्री राम व लक्ष्मण को उठा ले गया था। उस दौरान हनुमान जी मत्स्य रूप धारण कर पाताल में पहुंचे और भगवान राम और लक्ष्मण को अहिरावण की कैद से छुड़ाया। अहिरावण के बारे में कहा जाता है कि पाताल में 5 दिए जल रहे थे। जब तक वह दिए जलते तब तक अहिरावण का कोई कुछ नहीं कर सकता था, इसलिए हनुमान जी ने पंचमुखी का अवतार लिया और एक साथ पांचों दीपक को बुझा दिया। उसके बाद अहिरावण का अंत कर विजय प्राप्त की।

धार्मिक मान्यता

दक्षिण मुखी पंचमुखी हनुमान जी की पूजा करने के लिए भी खास कारण है। धार्मिक ग्रंथों में पंचमुखी हनुमान जी के दर्शन और पूजा के लिए बताया गया है और किसी भी तरह के संकट में दक्षिण मुखी पंचमुखी हनुमान जी की पूजा करने पर सारे संकट दूर हो जाते हैं।

CoCo

Recent Posts

सनातन धर्म पर टिप्पणी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने उदयनिधि स्टालिन को फटकार लगाई

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को डीएमके नेता और तमिलनाडु के मंत्री उदयनिधि स्टालिन को सनातन…

31 mins ago

हरियाणा पुलिस ने हिंसा में शामिल किसान प्रदर्शनकारियों के पासपोर्ट और वीजा रद्द करने का फैसला किया है

हरियाणा पुलिस ने पंजाब-हरियाणा सीमा पर हिंसा और सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने में शामिल…

4 days ago

टाटा चिप इकाई फरवरी में अपनी सेमीकंडक्टर चिप की घोषणा करेगी “यह एक बड़ा निवेश होगा”

चेन्नई: टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने बुधवार को कहा कि समूह "बहुत जल्द"…

4 days ago

चीन ने पाकिस्तान को 2 अरब डॉलर का ऋण दिया

कार्यवाहक वित्त मंत्री शमशाद अख्तर ने गुरुवार को रॉयटर्स को दिए जवाब में इसकी पुष्टि…

4 days ago

चीन से भारत की बढ़ती निर्यात हिस्सेदारी पीएम मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ के लिए एक बढ़ावा है

एक नए अध्ययन से पता चलता है कि भारत कुछ प्रमुख बाजारों में इलेक्ट्रॉनिक्स निर्यात…

5 days ago

अकबरनगर : हाइकोर्ट ने व्यावसायिक प्रतिष्ठान मालिकों की याचिका खारिज कर दी

अदालत ने कहा, याचिकाकर्ताओं ने खुद को झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाला बताया और सही तथ्य…

5 days ago