My voice

मटका : मिट्टी के घड़े का पानी स्वास्थ्यप्रद क्यों है?

Published by
Harish Bhandari

सदियों से हमें सलाह दी जाती रही है कि मिट्टी के बर्तन में रखा पानी पीना पूरे शरीर के लिए अच्छा होता है। यह एक परंपरा है जिसका पालन दुनिया भर की विभिन्न संस्कृतियों में किया जाता रहा है। आधुनिक सुविधा के विपरीत, यह सदियों पुरानी प्रथा ढेर सारे लाभ प्रदान करती है जो इसे विचार करने योग्य बनाती है। मिट्टी/मिट्टी के बर्तनों के अनूठे गुण, उनके प्राकृतिक शीतलन प्रभाव के साथ मिलकर, उन्हें पानी के भंडारण और उपभोग के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प बनाते हैं। अब, ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से बहुत से लोग अभी भी मिट्टी के बर्तन से पानी पीना पसंद करते हैं।

लाभ

उनमें से एक यह है कि इन बर्तनों में पानी को प्राकृतिक रूप से ठंडा करने की उल्लेखनीय क्षमता होती है। जैसे ही मिट्टी के बर्तन की छिद्रपूर्ण दीवारों से पानी रिसता है, यह वाष्पीकरणीय शीतलन की प्रक्रिया से गुजरता है। यह न केवल प्रभावी ढंग से प्यास बुझाता है बल्कि शरीर के तापमान को मध्यम बनाए रखने में भी मदद करता है, जिससे यह गर्म मौसम के दौरान सेवन के लिए आदर्श बन जाता है। इसके अतिरिक्त, मिट्टी की छिद्रपूर्ण प्रकृति एक प्राथमिक निस्पंदन प्रणाली के रूप में कार्य करती है, अशुद्धियों को दूर करती है और अधिक प्राकृतिक स्वाद प्रदान करती है।

सिर्फ इतना ही नहीं, बल्कि मिट्टी के बर्तन के पानी को चुनने के सबसे आकर्षक कारणों में से एक इसकी पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ाने की क्षमता है। मिट्टी में मौजूद कैल्शियम, मैग्नीशियम और आयरन जैसे सूक्ष्म खनिज, बर्तन में पानी को सूक्ष्म रूप से समृद्ध करते हैं। ऐसे खनिज युक्त पानी का नियमित सेवन शरीर के भीतर समग्र स्वास्थ्य और खनिज संतुलन को बेहतर बनाने में योगदान दे सकता है। इन बर्तनों में अपने भीतर जमा पानी को थोड़ा क्षारीय बनाने की भी उल्लेखनीय क्षमता होती है। माना जाता है कि क्षारीय पानी शरीर में अतिरिक्त अम्लता को बेअसर करता है, जिससे संभावित रूप से कई स्वास्थ्य समस्याओं को रोका जा सकता है।

मिट्टी के बर्तनों में पानी पीने का विकल्प चुनने से पर्यावरणीय लाभ भी होते हैं। प्लास्टिक के कंटेनरों के विपरीत, मिट्टी के बर्तन बायोडिग्रेडेबल होते हैं और पानी में हानिकारक रसायन नहीं छोड़ते हैं।

मिट्टी के बर्तन साफ़ करना

वैसे तो मिट्टी के घड़े का पानी पीना अति स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है, लेकिन कुछ मामलों में जब घड़े पुराने हो जाते हैं तो घड़े का पानी ठंडा नहीं रहता। ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि बर्तन पुराना हो गया है और उसमें कुछ फफूंद और गंदगी बन जाती है, जिसके कारण पुराने बर्तन का पानी ठंडा नहीं होता है। ज्यादातर मामलों में लोग ऐसे मटकों को फेंक देते हैं और नया मटका खरीद लेते हैं। लेकिन, हमें ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि कुछ सरल तरकीबों और युक्तियों का उपयोग करके पुराने को साफ करना बहुत आसान है।

गीले कपड़े का प्रयोग करें

अगर मटका का पानी ठंडा नहीं है तो एक सूती कपड़े को पानी में डुबा लें और उसे ज्यादा न निचोड़ें। यह गीला होना चाहिए. इस कपड़े का उपयोग पूरे दिन बर्तन के चारों ओर लपेटने के लिए करें। अब एक-दो घंटे बाद आपको एहसास होगा कि इसमें पानी ठंडा होने लगा है.

समय पर बर्तन धोएं

मटके के पानी को ठंडा रखने के लिए इसे धोना भी बहुत जरूरी है. कई बार बर्तन के ऊपर मिट्टी और ग्रीस जमा हो जाती है. ऐसे में स्क्रब पर बेकिंग सोडा लगाएं और हल्के हाथों से साफ करें। इस तरह रोमछिद्र खुल जायेंगे और पानी ठंडा होने लगेगा।

आखिरी लेकिन महत्वपूर्ण बात यह सुनिश्चित करें कि जब भी आप मिट्टी का बर्तन या मटका खरीदें तो वह कहीं से टूटा हुआ न हो। वहीं, जब आप बर्तन पर अपनी उंगलियां रखेंगे तो तेज आवाज होगी। बर्तन से जितनी तेज आवाज आती है, वह उतनी ही तेज होती है।

Harish Bhandari

Recent Posts

नियमित रूप से आंवला जूस पीने के फायदे

भारतीय आंवले से निकाला जाने वाला आंवला जूस स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है, जो…

1 day ago

नारायण मूर्ति का मंत्र

क्या भारत चीन की बराबरी कर सकता है, और यदि हां, तो कैसे? इंफोसिस के…

2 days ago

पुतिन का बीजिंग दौरा, गले मिलने की कहानी

चीनी 'सहज' कार्य नहीं करते हैं। और निश्चित रूप से शी जिनपिंग नहीं। खासतौर पर…

2 days ago

धोनी से हाथ मिलाने का विवाद

आईपीएल 2024 से चेन्नई सुपर किंग्स के बाहर होने से सीएसके के प्रशंसकों को एक…

3 days ago

शर्मिला टैगोर का कहना है कि वह एक ‘अनुपस्थित’ मां थीं

शर्मिला टैगोर का कहना है कि वह अपने बेटे सैफ अली खान को जन्म देने…

6 days ago

‘अगर मुझे कानूनी बदलाव करने पड़े तो करूंगा’: पीएम मोदी ने बताई अपनी बड़ी प्रतिबद्धता, गरीबों के पास वापस जाएगा काला धन

आजतक से एक्सक्लूसिव बात करते हुए, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भ्रष्टाचार के व्यापक मुद्दे…

7 days ago