यहां बताया गया है कि कैसे हनुमानजी ने सभी बाधाओं को पार किया और लक्ष्य को प्राप्त किया

सुंदरकांड में हनुमानजी सीता की खोज में समुद्र पार कर रहे थे, तभी सुरसा और सिंहिका नाम के राक्षसों ने उन्हें रोका, लेकिन वे नहीं रुके और अपने लक्ष्य यानी लंका पर पहुंच गए। अगर आप भी लक्ष्य तक पहुंचना चाहते हैं तो हनुमानजी की 4 चीजें आपके काम आ सकती हैं। केवल हनुमानजी की पूजा करने से ही नहीं, उनसे कुछ सीख लेने पर भी हमारी कई समस्याओं को दूर किया जा सकता है और हमें सभी कार्यों में सफलता मिल सकती है।

श्री राम चरित मानस के कुछ विशेष प्रसंगों के अनुसार जानिए हम हनुमानजी से क्या सीख सकते हैं।

समस्याओं से न डरें

जब हनुमानजी सुंदरकांड में सीता की खोज में समुद्र पार कर रहे थे, तो उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। सुरसा और सिंहिका नाम के राक्षसों ने हनुमानजी को समुद्र पार करने से रोका था, लेकिन वे नहीं रुके और लंका पहुंच गए। हमें भी हर कदम पर इसी तरह के संघर्षों का सामना करना पड़ता है। संघर्ष से डरे बिना लक्ष्य की ओर बढ़ना सीखना हनुमानजी से लेना चाहिए।

त्वरित बुद्धिमान निर्णय लेना

हनुमानजी ने समुद्र पार करते हुए सुरसा से युद्ध करने में समय बर्बाद नहीं किया। सुरसा हनुमान को खाना चाहती थी। उस समय हनुमानजी ने अपनी चतुराई से पहले अपने शरीर का आकार बढ़ा लिया और अचानक छोटे हो गए। हनुमानजी ने एक छोटा रूप बनाकर सुरसा के मुख में प्रवेश किया और वापस बाहर आ गए। हनुमानजी की इस चतुराई से सुरसा प्रसन्न हुई और वहां से चली गई। हम हनुमानजी से सीख सकते हैं कि हमें किसी भी हाल में समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। संयमित रहना चाहिए।

संयम से जियो

हनुमानजी आजीवन ब्रह्मचारी रहे और उनका जीवन संयमित रहा। वह अपने संयम के कारण बहुत शक्तिशाली था। अनियंत्रित दिनचर्या से गंभीर बीमारियों का भय बना रहता है। हम हनुमानजी से सीख सकते हैं कि संयम से कैसे जीना है। समाज सेवा मूल उद्देश्य होना चाहिए।

सामाजिक कार्यकर्ता का ध्यान रखें

श्रीराम के कार्य के लिए हनुमानजी का अवतार हुआ था। उनका मूल उद्देश्य श्री राम का कार्य करना अर्थात रावण का अंत करना और तीनों लोकों को सुखी बनाना था। यह प्रेरणा हमें भी हनुमानजी से लेनी चाहिए। हमें अच्छा और समाज सेवा करने वालों का समर्थन करना चाहिए।

Add a Comment

Your email address will not be published.