यहां बताया गया है कि हिंदू पौराणिक कथाओं में ब्रह्मांड की उत्पत्ति: नवग्रह पंचतत्व क्यों महत्वपूर्ण हैं!

जब निराकार ब्रह्म शिव ने एक से अनेक होने की कामना से ही पंचतत्व और तत्त्व देवताओं को प्रकट किया, तब इस सृष्टि की रचना पंचतत्वों से हुई है। ब्रह्मांड में इन पांच तत्वों का संतुलन है। यदि यह संतुलन बिगड़ता है तो यह विनाशकारी हो सकता है।

उदाहरण के लिए, यदि जल तत्व की मात्रा स्वाभाविक रूप से बढ़ जाती है, तो पृथ्वी पर चारों ओर पानी हो सकता है या बाढ़ आदि का प्रकोप अत्यधिक हो सकता है। आकाश, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी को पंचतत्व कहा गया है। मानव शरीर भी इन्हीं पांच तत्वों से बना है।

दरअसल इस पंचतत्व का संबंध मनुष्य की पांच इंद्रियों से है। जीभ, नाक, कान, त्वचा और आंखें हमारी पांचों इंद्रियों के लिए काम करती हैं। इन पांच तत्वों को पंचमहाभूत भी कहा जाता है। इन पांच तत्वों के स्वामी ग्रह (स्वामी ग्रह), कारकत्व (करकटवा), अधिकार क्षेत्र (अधिकार क्षेत्र) आदि भी निर्धारित किए गए हैं:-

अंतरिक्ष, (आकाश) वायु (क्वार्क), अग्नि (ऊर्जा), जल (बल), और पृथ्वी (पदार्थ) – ये पांच तत्व माने जाते हैं जिनसे ब्रह्मांड का प्रत्येक पदार्थ बना है।

अंतरिक्ष (आकाश)

आकाश तत्व का स्वामी बृहस्पति ग्रह है। आकाश एक ऐसा क्षेत्र है जिसकी कोई सीमा नहीं है। पृथ्वी के साथ-साथ संपूर्ण ब्रह्मांड इसी तत्व का शब्द है। आशा और उत्साह आदि इसके अधिकार क्षेत्र में आते हैं। वात और कफ इसकी धातु हैं। वास्तु शास्त्र में आकाश शब्द का अर्थ रिक्त स्थान माना गया है। आकाश का विशेष गुण “शब्द” है और यह शब्द हमारे कानों से संबंधित है। हम कानों से सुनते हैं और आकाश का स्वामी बृहस्पति ग्रह है, इसलिए ज्योतिष में भी श्रवण शक्ति का कारक गुरु माना गया है। जब शब्द हमारे कानों तक पहुंचते हैं, तभी उनमें से कुछ अर्थ निकलता है। वेदों और पुराणों में शब्द, अक्षर और ध्वनियों को ब्रह्म का रूप माना गया है। वास्तव में, आकाश में गतिविधियां गुरुत्वाकर्षण, प्रकाश, गर्मी, चुंबकीय क्षेत्र और प्रभाव तरंगों में परिवर्तन का कारण बनती हैं। इस परिवर्तन का प्रभाव मानव जीवन पर भी पड़ता है। तो कहो आकाश या कहो अंतरिक्ष या कहो खाली जगह। हमें इसके महत्व को कभी नहीं भूलना चाहिए। भगवान शिव को आकाश का देवता माना जाता है।

वायु (क्वार्क)

वायु तत्व का स्वामी ग्रह शनि है। इस तत्व का कारकत्व स्पर्श है। इसके अधिकार क्षेत्र में श्वास क्रिया आती है। वात इस तत्व की धातु है। यह पृथ्वी चारों ओर से वायु से घिरी हुई है। यह संभव है कि वायु या वात के आवरण को बाद में वायुमंडल कहा जाए। हवा में ऑक्सीजन गैस मौजूद होती है जो इंसानों को जिंदा रखती है। ऑक्सीजन जीने और जलने के लिए बहुत जरूरी है। इसके बिना मानव जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती है। अगर ऑक्सीजन पूरी तरह से हमारे दिमाग तक नहीं पहुंचे तो हमारी कई कोशिकाएं नष्ट हो सकती हैं। शायद। प्राचीन काल से विद्वानों ने वायु के दो गुणों पर विचार किया है। वह शब्द और स्पर्श है। स्पर्श का संबंध त्वचा से माना जाता है। संवेदनशील तंत्रिका तंत्र और मानव चेतना श्वास प्रक्रिया से संबंधित हैं और इसका आधार वायु है। भगवान विष्णु को पवन का देवता माना जाता है।

आग (अग्नि)

सूर्य और मंगल अग्नि के प्रमुख ग्रह होने के कारण अग्नि तत्व के स्वामी माने जाते हैं। अग्नि कारकत्व का रूप है। इसका अधिकार क्षेत्र जीवन शक्ति है। इस तत्व की धातु पित्त है। हम सभी जानते हैं कि सूर्य की अग्नि से ही पृथ्वी पर जीवन संभव है। यदि सूर्य नहीं होगा तो चारों ओर अँधेरे के सिवा कुछ नहीं होगा और मानव जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। सूर्य पर जलने वाली अग्नि सभी ग्रहों को जला देगी। ऊर्जा और प्रकाश देता है। इस अग्नि के प्रभाव से पृथ्वी पर जीवों के जीवन के लिए अनुकूल परिस्थितियों का निर्माण होता है। शब्द और स्पर्श के साथ-साथ रूप को भी अग्नि का गुण माना गया है। रूप का सम्बन्ध नेत्रों से माना जाता है। स्रोत अग्नि का तत्व है। सभी प्रकार की ऊर्जा चाहे वह सौर ऊर्जा हो या परमाणु ऊर्जा या ऊष्मा ऊर्जा, सभी का आधार अग्नि है। सूर्य या अग्नि को अग्नि का देवता माना जाता है।

जल (जल)

चंद्र और शुक्र दोनों को जल तत्व ग्रह माना जाता है। इसलिए चंद्र और शुक्र दोनों ही जल तत्व के स्वामी हैं। इस तत्व का कारक रस माना गया है। इन दोनों का अधिकार रक्त या रक्त पर माना जाता है क्योंकि पानी तरल है और रक्त भी तरल है। इसी तत्व के अंतर्गत कफ धातु आती है। जल के चार गुणों को विद्वानों ने शब्द, स्पर्श, रूप और रस माना है। यहाँ रस का अर्थ स्वाद है। स्वाद या रस का संबंध हमारी जुबान से है। पृथ्वी पर मौजूद सभी प्रकार के जल स्रोत जल तत्व के अंतर्गत आते हैं। पानी। जल के बिना जीवन संभव नहीं है। जल और जल तरंगों का उपयोग विद्युत ऊर्जा के उत्पादन में किया जाता है। हम यह भी अच्छी तरह जानते हैं कि विश्व की सभी सभ्यताओं का विकास नदियों के किनारे ही हुआ है। मान्यता है कि ब्रह्मा जी को जल का देवता भी माना गया है।

पृथ्वी (पदार्थ)

पृथ्वी का अधिपति ग्रह बुध है। इस तत्व का कारक गंध है। हड्डी और मांस इस तत्व के अधिकार क्षेत्र में आते हैं। इस तत्व के अंतर्गत आने वाली तीन धातुएं वात, पित्त और कफ हैं। विद्वानों के अनुसार पृथ्वी एक विशालकाय चुम्बक है। इस चुम्बक का दक्षिणी छोर भौगोलिक उत्तरी ध्रुव में स्थित है। यह संभव है कि यही कारण है कि दिशात्मक चुंबक का उत्तरी ध्रुव हमेशा उत्तर दिशा में होता है। केवल यही बताता है। पृथ्वी के इस चुंबकीय गुण का प्रयोग वास्तु शास्त्र में अधिक किया जाता है। इस चुंबक का उपयोग वास्तु में जमीन पर दबाव बनाने के लिए किया जाता है। वास्तु शास्त्र में दक्षिण दिशा में भार बढ़ाने पर अधिक बल दिया गया है। शायद इसीलिए दक्षिण दिशा में सिर करके सोना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। यदि यह बात धर्म से जुड़ी हो तो कहा जाता है कि दक्षिण दिशा की ओर पैर करके नहीं सोना चाहिए, क्योंकि दक्षिण में यमराज का वास होता है। पृथ्वी या भूमि के पांच गुण शब्द, स्पर्श, रूप, रस और आकार माने गए हैं। वजन के साथ-साथ गंध भी पृथ्वी की विशेषता है क्योंकि यह नासिका छिद्रों की घ्राण शक्ति से संबंधित है।

उपरोक्त विश्लेषण से यह निष्कर्ष निकलता है कि पंच तत्व मानव जीवन को अत्यधिक प्रभावित करते हैं। यह भाग्य और आचरण पर भी पूरी होती है। यदि जल सुख प्रदान करता है, तो सम्बन्धों की ऊष्मा सुख को बढ़ाने का कार्य करती है और वायु शरीर में प्राण वायु के रूप में परिचालित होती है। यदि आकाश महत्वाकांक्षा जगाता है, तो पृथ्वी सहनशीलता और वास्तविकता का पाठ पढ़ाती है। यदि शरीर में अग्नि तत्व की वृद्धि होती है तो जल की मात्रा बढ़ाकर इसे संतुलित किया जा सकता है। वायु दोष होने पर आकाश तत्व को बढ़ाकर संतुलित किया जाता है।

Add a Comment

Your email address will not be published.