ये हैं भगवान विष्णु के 23 अवतार और कलयुग में होंगे 24वां अवतार

कहा जाता है कि जब भी धरती पर कोई संकट आता है तो भगवान अवतार लेते हैं और उस संकट को दूर कर देते हैं। भगवान शिव और भगवान विष्णु ने कई बार पृथ्वी पर अवतार लिया है। भगवान विष्णु के 24वें अवतार के बारे में कहा जाता है कि उनका ‘कल्कि अवतार’ के रूप में आना निश्चित है।

उनके 23 अवतार अब तक धरती पर अवतरित हो चुके हैं। इन 24 अवतारों में से 10 अवतार विष्णु के प्रमुख अवतार माने जाते हैं। ये हैं मत्स्य अवतार, कूर्म अवतार, वराह अवतार, नरसिंह अवतार, वामन अवतार, परशुराम अवतार, राम अवतार, कृष्ण अवतार, बुद्ध अवतार, कल्कि अवतार। आइए इसे विस्तार से जानते हैं।

श्री सनकादि मुनि

सृष्टि के प्रारंभ में ब्रह्मा जी ने अनेक लोकों की रचना करने की इच्छा से घोर तपस्या की। उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु ने सनक, सानंदन, सनातन और सनतकुमार नाम के चार ऋषियों के रूप में अवतार लिया, जिनका नाम सूर्य यानी तपस्या है। ये चारों मोक्ष मार्ग के प्रति समर्पित, ध्यान में लीन, नित्य सिद्ध और अनादि काल से अनासक्त थे। उन्हें भगवान विष्णु का प्रथम अवतार माना जाता है।

वराह अवतार

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने वराह के रूप में दूसरा अवतार लिया था। वराह अवतार से जुड़ी कथा इस प्रकार है-

प्राचीन काल में, जब राक्षस हिरण्याक्ष ने पृथ्वी को ले लिया और उसे समुद्र में छिपा दिया, तो भगवान विष्णु ब्रह्मा की नाक से वराह के रूप में प्रकट हुए। भगवान विष्णु के इस रूप को देखकर सभी देवताओं और ऋषियों ने उनकी स्तुति की। सभी के अनुरोध पर भगवान वराह ने पृथ्वी की खोज शुरू की। उसने अपने थूथन की सहायता से पृथ्वी का पता लगाया और समुद्र के अंदर जाकर अपने दाँतों पर रखकर पृथ्वी को बाहर निकाला।

जब राक्षस हिरण्याक्ष ने यह देखा, तो उसने भगवान विष्णु के वराह रूप को लड़ने के लिए चुनौती दी। दोनों के बीच भयंकर युद्ध छिड़ गया। अंत में भगवान वराह ने हिरण्याक्ष का वध किया। इसके बाद भगवान वराह ने अपने खुरों से जल का खंभा खड़ा किया और उस पर पृथ्वी की स्थापना की।

नारद अवतार

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार देवर्षि नारद भी भगवान विष्णु के ही अवतार हैं। शास्त्रों के अनुसार नारद मुनि ब्रह्मा के सात मानस पुत्रों में से एक हैं। उन्होंने कठिन तपस्या से देवर्षि का पद प्राप्त किया। उन्हें भगवान विष्णु के अनन्य भक्तों में से एक माना जाता है। देवर्षि नारद धर्म के प्रचार और लोगों के कल्याण के लिए हमेशा प्रयासरत रहते हैं। शास्त्रों में देवर्षि नारद को भगवान का मन भी कहा गया है। श्रीमद्भागवत गीता के दसवें अध्याय के 26वें श्लोक में स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने इनके महत्व को स्वीकार करते हुए कहा है- देवर्षिनामचनारद:। अर्थात् देवताओं में मैं नारद हूँ।

नर-नारायण

सृष्टि के प्रारंभ में भगवान विष्णु ने धर्म की स्थापना के लिए दो रूपों में अवतार लिया। इस अवतार में उन्होंने अपने सिर पर जटा पहन रखा था। उनके हाथों में हंस, पैरों में पहिया और छाती में श्रीवत्स का प्रतीक था। उनका पूरा वेश तपस्वियों के समान था। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने यह अवतार नर-नारायण के रूप में लिया था।

कपिल मुनि

भगवान विष्णु ने कपिल मुनि के रूप में पांचवां अवतार लिया। उनके पिता का नाम महर्षि कर्दम और माता का नाम देवहुति था। बिस्तर पर लेटे हुए भीष्म पितामह के शरीर को छोड़ने के समय, भगव कपिल भी वेदव्यास आदि ऋषियों के साथ वहाँ मौजूद थे। राजा सगर के साठ हजार पुत्र भगवान कपिला के क्रोध से भस्म हो गए थे। भगवान कपिला सांख्य दर्शन के प्रवर्तक हैं। कपिल मुनि भागवत धर्म के प्रमुख बारह आचार्यों में से एक हैं।

दत्तात्रेय अवतार

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार दत्तात्रेय भी भगवान विष्णु के ही अवतार हैं। इनकी उत्पत्ति की कथा इस प्रकार है-

एक बार माता लक्ष्मी, पार्वती और सरस्वती को अपनी पवित्रता पर बहुत गर्व हुआ। भगवान ने उनके अहंकार को नष्ट करने के लिए एक लीला बनाई।

उनके अनुसार एक दिन नारदजी घूमते-घूमते देवलोक पहुंचे और तीनों देवियों से बारी-बारी से कहा कि अत्रि मुनि की पत्नी अनुसुइया के सामने आपकी पवित्रता कुछ भी नहीं है। तीनों देवियों ने अपने स्वामी को यह बात बताई और अनुसुइया की शुद्धता की परीक्षा लेने को कहा।

तब भगवान शंकर, विष्णु और ब्रह्मा साधु के वेश में अत्रि मुनि के आश्रम में आए। महर्षि अत्री उस समय आश्रम में नहीं थे। तीनों ने देवी अनुसुइया से भिक्षा मांगी लेकिन यह भी कहा कि आपको हमें नग्न अवस्था में भिक्षा देनी होगी।

अनुसुइया यह सुनकर पहले तो चौंक गईं, लेकिन फिर साधुओं का अपमान न होने के डर से उन्होंने अपने पति को याद किया और कहा कि अगर मेरा पवित्र धर्म सच्चा है, तो ये तीन साधु छह महीने के बच्चे बन जाएं। इतना कहते ही त्रिदेव बचपन में रोने लगे। तब अनुसुइया ने उसे मां के रूप में लिया और उसे स्तनपान कराया और पालने में झूलने लगी।

जब तीनों देवता अपने स्थान पर नहीं लौटे तो देवी व्याकुल हो उठीं। तब नारद वहां आए और सब कुछ बताया। तीनों महिलाएं अनुसुइया के पास आईं और क्षमा मांगी। तब देवी अनुसुइया ने त्रिदेव को उनके पूर्व रूप में बनाया। प्रसन्न होकर त्रिदेव ने उन्हें वरदान दिया कि हम तीनों अपने हिस्से से आपके गर्भ से पुत्र के रूप में जन्म लेंगे। तब ब्रह्मा के अंश से चन्द्रमा, शंकर के अंश से दुर्वासा और विष्णु के अंश से दत्तात्रेय की उत्पत्ति हुई।

यज्ञ अवतार

यज्ञ भगवान विष्णु के सातवें अवतार का नाम है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार स्वयंभू मन्वन्तर में भगवान यज्ञ का जन्म हुआ था। अकुति का जन्म स्वयंभू मनु की पत्नी शतरूपा के गर्भ से हुआ था। वह रुचि प्रजापति की पत्नी बनीं। यहां भगवान विष्णु ने यज्ञ के नाम से अवतार लिया था। भगवान यज्ञ की पत्नी दक्षिणा से बारह पुत्र उत्पन्न हुए। स्वयंभू मन्वन्तर में इन्हें यम नाम के बारह देवता कहा गया है।

भगवान ऋषभदेव

भगवान विष्णु ने ऋषभदेव के रूप में आठवां अवतार लिया। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार महाराज नाभि की कोई संतान नहीं थी। इस कारण उन्होंने अपनी पत्नी मेरुदेवी के साथ पुत्र की इच्छा से यज्ञ किया। यज्ञ से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु स्वयं प्रकट हुए और महाराज नाभि को वरदान दिया कि मैं यहां पुत्र रूप में जन्म लूंगा।

कुछ समय बाद भगवान विष्णु महाराज ने वरदान के रूप में नाभि में पुत्र के रूप में जन्म लिया। पुत्र के अति सुन्दर सुगठित शरीर, यश, तेल, बल, ऐश्वर्य, यश, पराक्रम और पराक्रम आदि को देखकर महाराज नाभि ने उसका नाम ऋषभ (श्रेष्ठ) रखा।

आदिराज पृथु

भगवान विष्णु के एक अवतार का नाम आदिराज पृथु है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार स्वयंभू मनु के वंश में अंग नाम के प्रजापति का विवाह मृत्यु की मानसिक पुत्री सुनीता से हुआ था। उनका एक बेटा था जिसका नाम वेन था। उसने भगवान में विश्वास करने से इनकार कर दिया और खुद की पूजा करने के लिए कहा। तब महर्षियों ने मन्त्र पूत कुशों से उसका वध कर दिया। तब महर्षियों ने पुत्रहीन राजा वेन की भुजाओं का मंथन किया, जिससे पृथु नामक पुत्र का जन्म हुआ। पृथु के दाहिने हाथ में चक्र और पैरों में कमल का चिन्ह देखकर ऋषियों ने बताया कि श्री हरि का अंश स्वयं पृथु के भेष में अवतरित हुआ था।

मछली अवतार

पुराणों के अनुसार ब्रह्मांड को प्रलय से बचाने के लिए भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार लिया था। इसकी कथा इस प्रकार है- कृतयुग के प्रारंभ में राजा सत्यव्रत राजा बने। एक दिन राजा सत्यव्रत नदी में स्नान कर जल दे रहे थे। अचानक उसकी अंजलि में एक छोटी सी मछली आ गई। जब उसने देखा तो उसने सोचा कि इसे वापस समुद्र में डाल दूं, लेकिन उस मछली ने कहा – मुझे समुद्र में मत डालो, नहीं तो बड़ी मछलियां मुझे खा जाएंगी। तब राजा सत्यव्रत ने मछली को अपने कमंडल में रखा। जब मछली बड़ी हो गई तो राजा ने उसे अपने सरोवर में रख लिया, फिर देखते ही देखते मछली बड़ी हो गई। राजा समझ गया कि यह कोई साधारण प्राणी नहीं है। राजा ने मछली से अपने मूल रूप में वापस आने का अनुरोध किया। राजा की प्रार्थना सुनकर भगवान विष्णु चार भुजाओं के सामने प्रकट हुए और उन्होंने कहा कि यह मेरा मत्स्य अवतार है।

भगवान ने सत्यव्रत से कहा- सुनो राजा सत्यव्रत! आज से सात दिन बाद प्रलय होगा। तब मेरी प्रेरणा से एक बड़ी नाव तुम्हारे पास आएगी। तुम सात ऋषियों, औषधियों, बीजों और प्राणियों के सूक्ष्म शरीरों को लेकर उसमें बैठो, जब तुम्हारी नाव डगमगाने लगेगी, तो मैं तुम्हारे पास मछली के रूप में आऊंगा। उस समय आप वासुकी नाग की सहायता से उस नाव को मेरे सींग से बांध दें। जब तुम उस समय कोई प्रश्न पूछोगे तो मैं तुम्हें उत्तर दूंगा, जिससे मेरी महिमा, जो परब्रह्म के नाम से जानी जाती है, तुम्हारे हृदय में प्रकट हो जाए। फिर समय आने पर मत्स्य रूप में भगवान विष्णु ने राजा सत्यव्रत को तत्वज्ञान का उपदेश दिया, जो मत्स्यपुराण के नाम से प्रसिद्ध है।

कुर्मा अवतार

भगवान विष्णु ने कूर्म (कछुए) का अवतार लिया और समुद्र मंथन में मदद की। भगवान विष्णु के कूर्म अवतार को कच्छप अवतार भी कहा जाता है। इसकी कथा इस प्रकार है- एक बार महर्षि दुर्वासा ने देवताओं के राजा इंद्र को तीर्थ बनाने का श्राप दिया था। जब इंद्र भगवान विष्णु के पास गए, तो उन्होंने उनसे समुद्र मंथन करने को कहा। तब इंद्र भगवान विष्णु के निर्देशानुसार राक्षसों और देवताओं के साथ समुद्र मंथन करने के लिए सहमत हुए।

समुद्र मंथन के लिए मंदराचल पर्वत को मथानी और नागराज वासुकी को नेता बनाया गया था। देवताओं और दैत्यों ने अपने मतभेदों को भूलकर मंदराचल को उखाड़ कर समुद्र की ओर ले गए, लेकिन वे उसे दूर नहीं ले जा सके। तब भगवान विष्णु ने मंदराचल को समुद्र तट पर रख दिया। देवताओं और राक्षसों ने मंदराचल को समुद्र में डाल दिया और नागराज वासुकी को नेता बना दिया। लेकिन मंदराचल के नीचे कोई आधार नहीं होने के कारण वह समुद्र में डूबने लगा।

यह देखकर भगवान विष्णु ने एक विशाल कूर्म (कछुए) का रूप धारण किया और समुद्र में मंदराचल का आधार बन गए। मंदराचल भगवान कूर्म की विशाल पीठ पर तेजी से आगे बढ़ने लगा और इस प्रकार समुद्र मंथन पूरा हुआ।

भगवान धन्वंतरि

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार जब देवताओं और राक्षसों ने मिलकर समुद्र मंथन किया तो उसमें से पहला भयानक विष निकला, जिसे भगवान शिव ने पी लिया। इसके बाद समुद्र मंथन से उच्छैश्रवा घोड़ा, देवी लक्ष्मी, ऐरावत हाथी, कल्प वृक्ष, अप्सराएं और कई रत्न निकले। अंत में, भगवान धन्वंतरि अमृत कलश के साथ प्रकट हुए। इस धन्वंतरि को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। उन्हें औषधियों का स्वामी भी माना जाता है।

मोहिनी अवतार

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार समुद्र मंथन के अंत में धन्वंतरि अमृत कलश लेकर निकले थे। अमृत ​​मिलते ही अनुशासन भंग हो गया। देवताओं ने कहा कि हमें इसे लेना चाहिए, राक्षसों ने कहा कि हमें इसे लेना चाहिए। इस झगड़े में इंद्र का पुत्र जयंत अमृत कुंभ लेकर भाग गया। सभी राक्षस और देवता भी उसके पीछे दौड़े। असुरों और देवताओं के बीच भयंकर युद्ध हुआ।

देवता परेशान हो गए और भगवान विष्णु के पास गए। तब भगवान विष्णु ने मोहिनी का अवतार लिया। भगवान ने मोहिनी के रूप में सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। मोहिनी ने देवताओं और राक्षसों की बात सुनी और कहा कि मुझे यह अमृत कलश दो, फिर मैं देवता और दानव को बारी-बारी से अमृत पिलाऊंगा। दोनों राजी हो गए। एक तरफ देवता बैठे थे और दूसरी तरफ राक्षस।

भगवान विष्णु मोहिनी के रूप में मधुर गीत गाते और नृत्य करते हुए देवताओं और राक्षसों को अमृत पीने लगे। दरअसल मोहिनी देवताओं को ही अमृत पान दे रही थी, जबकि असुर समझ गए थे कि वे भी अमृत पी रहे हैं। इस प्रकार भगवान विष्णु ने मोहिनी का अवतार लेकर देवताओं का भला किया।

भगवान नरसिंह

भगवान विष्णु ने नरसिंह के रूप में अवतार लिया और राक्षसों के राजा हिरण्यकश्यप का वध किया। इस अवतार की कथा इस प्रकार है- धार्मिक ग्रंथों के अनुसार राक्षसों का राजा हिरण्यकश्यप अपने आप को भगवान से भी बलवान मानता था। उसे न मनुष्य से, न देवताओं से, न पक्षियों से, न शस्त्रों से, न दिन में न रात में, न पृथ्वी पर, न आकाश में, न शस्त्रों से मरने का वरदान प्राप्त था। उनके शासन में, जो कोई भी भगवान विष्णु की पूजा करता था, उसे दंडित किया जाता था। उसके पुत्र का नाम प्रह्लाद था। प्रह्लाद बचपन से ही भगवान विष्णु के अनन्य भक्त थे। जब हिरण्यकश्यप को इस बात का पता चला तो वह बहुत क्रोधित हो गया और प्रह्लाद को समझाने की कोशिश की, लेकिन फिर भी जब प्रह्लाद नहीं माना तो हिरण्यकश्यप ने उसे मौत की सजा दे दी।

लेकिन हर बार भगवान विष्णु के चमत्कार से वह बच गया। हिरण्यकश्यप की बहन होलिका, जिसे आग से न जलने का वरदान प्राप्त था, प्रह्लाद के साथ धधकती आग में बैठ गई। तब भी भगवान विष्णु की कृपा से प्रह्लाद बच गया और होलिका जल गई। जब हिरण्यकशिपु स्वयं प्रह्लाद को मारने वाला था, तब भगवान विष्णु नरसिंह के रूप में स्तंभ से प्रकट हुए और हिरण्यकशिपु को अपने नाखूनों से मार डाला।

वामन अवतार

सतयुग में प्रह्लाद के पौत्र दैत्यराज बलि ने स्वर्ग पर अधिकार कर लिया। इस आपदा से बचने के लिए सभी देवता भगवान विष्णु के पास गए। तब भगवान विष्णु ने कहा कि मैं स्वयं देवमाता अदिति के गर्भ से जन्म लेकर तुम्हें स्वर्ग का राज्य दूंगा। कुछ समय बाद भगवान विष्णु ने वामन के रूप में अवतार लिया।

एक बार जब बलि एक महान यज्ञ कर रहे थे, भगवान वामन बलि के यज्ञशाला में गए और राजा बलि से तीन पग भूमि दान करने को कहा। राजा बलि के गुरु शुक्राचार्य ने भगवान की लीला को समझा और बाली को दान देने से मना कर दिया। लेकिन बाली ने फिर भी भगवान वामन को पृथ्वी के तीन कदम दान करने का संकल्प लिया। भगवान वामन ने एक विशाल रूप धारण किया और एक कदम में पृथ्वी को और दूसरे चरण में स्वर्गीय दुनिया को मापा। जब तीसरा कदम उठाने के लिए कोई जगह नहीं बची, तो बाली ने भगवान वामन से अपने सिर पर कदम रखने के लिए कहा। वह बाली के सिर पर कदम रखकर सुत्तलोक पहुंचा। भगवान ने बलि की वीरता को देखकर उसे सुत्तलोक का स्वामी भी बना दिया। इस तरह भगवान वामन ने देवताओं की मदद की और उन्हें स्वर्ग में लौटा दिया।

हयग्रीव अवतार

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार एक बार मधु और कैटभ नाम के दो शक्तिशाली राक्षसों ने ब्रह्मा से वेदों का अपहरण किया और रसातल में पहुंच गए। वेदों की हानि के कारण ब्रह्मा जी बहुत दुखी हुए और भगवान विष्णु के पास पहुंचे। तब भगवान ने हयग्रीव अवतार लिया। इस अवतार में भगवान विष्णु की गर्दन और मुख घोड़े के समान थे। तब भगवान हयग्रीव रसातल में पहुंचे और मधु-कैतभ को मारकर वेदों को फिर से भगवान ब्रह्मा को दे दिया।

श्रीहरि अवतार

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार प्राचीन काल में एक शक्तिशाली गजेंद्र अपने हाथियों के साथ त्रिकुटा नामक पर्वत की तलहटी में रहता था।

एक बार वह अपने हाथियों के साथ तालाब में नहाने गया। वहां एक मगरमच्छ ने उसका पैर पकड़ लिया और उसे पानी के नीचे खींचने लगा। गजेंद्र और मगरमच्छ के बीच संघर्ष एक हजार साल तक जारी रहा। अंत में गजेंद्र ने विश्राम किया और भगवान श्रीहरि का ध्यान किया। गजेंद्र की स्तुति सुनकर भगवान श्री हरि प्रकट हुए और मगरमच्छ को अपने पहिये से मार डाला। भगवान श्रीहरि ने गजेंद्र को बचा लिया और उन्हें अपना पार्षद बना लिया।

परशुराम अवतार

हिंदू शास्त्रों के अनुसार, परशुराम भगवान विष्णु के प्रमुख अवतारों में से एक थे। भगवान परशुराम के जन्म को लेकर दो कथाएं प्रचलित हैं। हरिवंश पुराण के अनुसार उनमें से एक कथा इस प्रकार है-

प्राचीन काल में, महिष्मती शहर पर शक्तिशाली हैयवंशी क्षत्रिय कार्तवीर्य अर्जुन (सहस्त्रबाहु) का शासन था। वह बहुत घमंडी और अत्याचारी भी था।

एक बार अग्निदेव ने उनसे भोजन करने का अनुरोध किया। तब सहस्त्रबाहु ने गर्व से आकर कहा कि तुम जहां चाहो भोजन पा सकते हो, मेरा राज्य सर्वत्र है। तब अग्निदेव ने जंगलों को जलाना शुरू कर दिया। आपव ऋषि वन में तपस्या कर रहे थे। आग ने उनके आश्रम को भी जला दिया। इससे क्रोधित होकर ऋषि ने सहस्त्रबाहु को श्राप दिया कि भगवान विष्णु परशुराम के रूप में जन्म लेंगे और न केवल सहस्त्रबाहु बल्कि सभी क्षत्रियों का नाश करेंगे। इस प्रकार भगवान विष्णु ने भार्गव वंश में महर्षि जमदग्रि के पांचवें पुत्र के रूप में जन्म लिया।

महर्षि वेद व्यास

पुराणों में महर्षि वेद व्यास को भी भगवान विष्णु का अंश माना गया है। भगवान व्यास नारायण के अवतार थे। वे महान विद्वान महर्षि पाराशर के पुत्र के रूप में प्रकट हुए। उनका जन्म कैवर्तराज की पुत्री सत्यवती के गर्भ से यमुना द्वीप पर हुआ था। उसके शरीर का रंग काला था। इसलिए उनका एक नाम कृष्ण द्वैपायन भी था। उन्होंने मनुष्य की आयु और शक्ति को ध्यान में रखते हुए वेदों का विभाजन किया। इसलिए उन्हें वेदव्यास भी कहा जाता है। उन्होंने महाभारत ग्रंथ की रचना भी की।

हंस अवतार

एक बार भगवान ब्रह्मा उनकी बैठक में बैठे थे। तब उनके मानस पुत्र सनकदी वहां पहुंचे और भगवान ब्रह्मा से मनुष्यों के उद्धार के बारे में चर्चा करने लगे। तब भगवान विष्णु वहां महाहंस के रूप में प्रकट हुए और उन्होंने सनकदि ऋषियों की शंकाओं का निवारण किया। इसके बाद सभी ने भगवान हंस की पूजा की। इसके बाद, महान हंस-रूप श्री भगवान गायब हो गए और अपने पवित्र निवास को चले गए।

श्री राम अवतार

त्रेता युग में राक्षस राजा रावण का बहुत आतंक था। देवता भी उससे डरते थे। उसे मारने के लिए, भगवान विष्णु ने माता कौशल्या के गर्भ से राजा दशरथ के गर्भ से एक पुत्र के रूप में जन्म लिया। इस अवतार में भगवान विष्णु ने कई राक्षसों का वध किया और मर्यादा का पालन करते हुए अपना जीवन व्यतीत किया। वह अपने पिता के कहने पर वनवास चला गया।

वनवास के दौरान, राक्षस राजा रावण ने अपनी पत्नी सीता का अपहरण कर लिया था। भगवान राम सीता की खोज में लंका पहुंचे, जहां भगवान राम और रावण ने जमकर युद्ध किया जिसमें रावण मारा गया। इस प्रकार भगवान विष्णु ने राम का अवतार लिया और देवताओं को भय से मुक्त किया।

श्री कृष्ण अवतार

द्वापर युग में, भगवान विष्णु ने श्री कृष्ण का अवतार लिया और अधर्मियों का विनाश किया। भगवान कृष्ण का जन्म कारागार में हुआ था। उनके पिता का नाम वासुदेव और माता का नाम देवकी था। भगवान कृष्ण ने इस अवतार में कई चमत्कार किए और दुष्टों का नाश किया। भगवान कृष्ण ने भी कंस का वध किया था। महाभारत के युद्ध में वे अर्जुन के सारथी बने और गीता का ज्ञान जगत को दिया। धर्मराज युधिष्ठिर को राजा बनाकर धर्म की स्थापना की। भगवान विष्णु के इस अवतार को सभी अवतारों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

बुद्ध अवतार

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार बौद्ध धर्म के प्रवर्तक गौतम बुद्ध भी भगवान विष्णु के ही अवतार थे, लेकिन पुराणों में भगवान बुद्धदेव का जन्म गया के निकट किकट में हुआ बताया गया है। उनके पिता का नाम अजान बताया गया है। यह घटना पुराण में वर्णित बुद्धावतार की है।

एक समय में दैत्यों की शक्ति बहुत बढ़ गई थी। देवता भी उनके भय से दूर भागने लगे। राज्य की इच्छा से राक्षसों ने देवराज इंद्र से पूछा कि हमारा साम्राज्य स्थिर रहे, इसका समाधान क्या है। तब इंद्र ने शुद्ध अर्थ में कहा कि स्थिर शासन के लिए यज्ञ और वेद-निर्धारित आचरण आवश्यक है। फिर राक्षसों ने वैदिक आचरण और महायज्ञ करना शुरू कर दिया, जिससे उनकी शक्ति बढ़ने लगी। तब सभी देवता भगवान विष्णु के पास गए। तब भगवान विष्णु ने देवताओं की भलाई के लिए बुद्ध का रूप धारण किया। उनके हाथ में मरजानी थी और वह सड़क पर झाडू लगाते हुए चलते थे। इस प्रकार भगवान बुद्ध राक्षसों के पास पहुंचे और उन्हें उपदेश दिया कि यज्ञ करना पाप है। यज्ञ से हिंसा होती है। यज्ञ की अग्नि से कितने प्राणी भस्म हो जाते हैं। भगवान बुद्ध की शिक्षाओं से राक्षस प्रभावित हुए। उन्होंने यज्ञ और वैदिक अभ्यास करना छोड़ दिया। इससे उसकी शक्ति क्षीण हो गई और देवताओं ने उस पर आक्रमण कर उसका राज्य पुनः प्राप्त कर लिया।

कल्कि अवतार

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार कलियुग में भगवान विष्णु कल्कि के रूप में अवतरित होंगे। कलियुग और सतयुग के काल में कल्कि अवतार होगा। इस अवतार में 64 कलाएं शामिल होंगी। पुराणों के अनुसार उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में संभल नामक स्थान पर भगवान कल्कि विष्णुयश नामक तपस्वी ब्राह्मण के पुत्र के रूप में जन्म लेंगे। देवदत्त नाम के घोड़े पर सवार कल्कि संसार से पापियों का नाश कर धर्म की पुनर्स्थापना करेंगे।

Add a Comment

Your email address will not be published.