हिंदू नव वर्ष: संवत्सरम्भ – ब्रह्मा जी द्वारा ब्रह्मांड के निर्माण का दिन

संवत्सरम्भ (वर्ष की शुरुआत) के दिन किए जाने वाले धार्मिक कर्म (2 अप्रैल 2022)

अगर कोई त्योहार आता है तो हम उस त्योहार की विशेषता और विधि के अनुसार मनाते हैं। हिंदू धर्म में बताए गए पारंपरिक कार्य के आध्यात्मिक विज्ञान को समझकर हम इसके महत्व को पहचानते हैं। आइए समझते हैं सनातन संस्था द्वारा संकलित इस लेख से संवत्सरम्भ (हिन्दू नववर्ष) के दिन किये जाने वाले धार्मिक कार्यों के बारे में।

अभ्यंग स्नान (मांगलिक स्नान)

चैत्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा के दिन सुबह जल्दी उठकर पहला अभ्यंग स्नान करें। अभ्यंग स्नान के समय देश का समय बताना होता है।

स्नान के बाद आम के पत्तों का एक बंदना बनाकर हर दरवाजे पर लाल फूलों से बांध दें। क्योंकि लाल रंग शुभ होता है।

संवत्सर पूजा

पहली दिनचर्या देवता की पूजा करना है। वर्षा प्रतिपदा के दिन हम बड़ी शांति करते हैं। शांति के प्रारंभ में वे ब्रह्मदेव की पूजा करते हैं; क्योंकि इसी दिन ब्रह्मदेव ने सृष्टि की रचना की थी। पूजा में उन्हें दौना (तीखी तीखी सुगंध वाला पत्ता) चढ़ाया जाता है। इसके बाद होमा, हवन और ब्राह्मण अनुष्ठान करते हैं। फिर अनंत रूपों में अवतार लेने वाले विष्णु की पूजा करें। वह ‘नमस्ते ब्रह्मरुपाय विष्णुवे नमः’ मंत्र का जाप करके उन्हें प्रणाम करते हैं और फिर ब्राह्मणों को दक्षिणा देते हैं। हो सके तो इतिहास, पुराण आदि शास्त्र ब्राह्मणों को दान देते हैं। ऐसा करने से सभी पापों का नाश होता है, शांति की प्राप्ति होती है, दुर्घटनाएं नहीं होती हैं, जीवन में वृद्धि होती है और धन और अन्न से समृद्धि आती है ऐसा कहा गया है। .

झंडे को उठाना
  1. ब्रह्मध्वज को सूर्योदय के तुरंत बाद खड़ा करना चाहिए। असाधारण स्थिति में (जैसे तिथि क्षय) पंचांग को देखकर ब्रह्मध्वज खड़ा करें।
  2. पीढ़ी पर स्वस्तिक बनाएं और ब्रह्मध्वज को खड़ा करें। ब्रह्मध्वज को खड़ा करने के लिए 10 फीट लंबे बांस के ऊपर नीम की टहनियों, बताशे की माला और लाल फूलों के साथ लाल या पीले रेशमी कपड़े की चोंच बनाकर बांध दें, फिर तांबे के कलश पर कुमकुम की 5 पंक्तियाँ बनाकर बांध दें। बाँस ऊपर के सिरे पर उल्टा करके रखें। इस प्रकार सजाए गए ब्रह्मध्वज को डोरी से बांधकर खड़ा कर दें। ब्रह्मध्वज को घर के मुख्य द्वार के बाहर, द्वार से लगा कर, जमीन के दायीं ओर खड़ा कर दें। झंडा सीधा खड़ा नहीं होना चाहिए और आगे की ओर झुकना चाहिए। झंडे के सामने सुंदर रंगोली बनाएं।
  3. इस धर्म ध्वज को “ब्रह्मध्वजय नमः” कहकर दृढ़ संकल्प के साथ पूजा जाता है।
  4. सूर्यास्त के समय गुड़ का नैवेद्य दिखाकर धर्म ध्वजा को उतारा जाता है।
दान

याचिकाकर्ताओं को विभिन्न प्रकार के दान देने चाहिए, उदा। बर्तन बनाकर जल दान करें। इससे पिता संतुष्ट हैं। धर्मदान सर्वोत्तम दान है, ऐसा शास्त्रों में बताया गया है। वर्तमान समय में धर्म की शिक्षा देना समय की आवश्यकता है।

पंचांग श्रवण

‘इस दिन नए साल की शुरुआत के कारण ज्योतिष की पूजा करके या उपाध्याय से हम नए साल का पंचांग यानी साल का फल सुनते हैं। इस पंचांग को सुनने के फायदे इस प्रकार बताए गए हैं।

तिथेश्च श्रीकरं प्रोक्तं वारादायुष्यवर्धनम् ।
नक्षत्राद्धरते पापं योगाद्रोगनिवारणम् ।।
करणाच्चिन्तितं कार्यं पञ्चाङ्गफलमुत्तमम् ।
एतेषां श्रवणान्नित्यं गङ्गास्नानफलं लभेत् ।।

अर्थ: तिथि के श्रवण से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है, बाणों के श्रवण से जीवन में वृद्धि होती है, नक्षत्रों के श्रवण से पापों का नाश होता है, योग के श्रवण से रोग दूर होते हैं, करण के श्रवण से निर्धारित कार्य सिद्ध होते हैं। इस पंचांग को सुनने का यही सर्वोत्तम फल है। इसका नित्य श्रवण करने से गंगा स्नान का फल मिलता है।

नीम के पत्तों का प्रसाद

संवत्सरम् की शुरुआत के दिन नीम का प्रसाद खाया जाता है, क्योंकि नीम में किसी भी अन्य पदार्थ की तुलना में प्रजापति तरंगों को ग्रहण करने की क्षमता अधिक होती है। नीम के फूल, कोमल पत्ते, भीगे हुए चने की दाल या भीगे हुए चने, शहद, जीरा और थोड़ी हींग को एक साथ मिलाकर इस प्रसाद को बनाकर सभी में बांट दें।

जमीन की जुताई

संवत्सरम्भ के दिन भूमि पर हल चलाना चाहिए। जुताई से नीचे की मिट्टी ऊपर आ जाती है। मिट्टी के सूक्ष्म कणों पर प्रजापति तरंगों के संस्कार से पृथ्वी की बीज अंकुरित करने की क्षमता कई गुना बढ़ जाती है। खेती के औजारों और बैलों पर तरंग उत्पन्न करने वाले अक्षत मंत्र के साथ प्रजापति को भी डालें। खेतों में काम करने वाले लोगों को नए कपड़े दिए जाने चाहिए। इस दिन खेतों में काम करने वाले लोगों और बैलों के भोजन में पका हुआ कुम्हाड़ा, मूंग दाल, चावल, पूरन आदि शामिल होना चाहिए।

तित्तिश्च श्रीकरं प्रोक्तं वारादयुष्यवर्धनम् ।
नक्षत्राध्रते पापं योगाद्रोगनिवारणम् ।।
कर्णचिन्तितं पञ्चाङ्गफलमुत्तमम्।
एतेषां श्रवणन्नित्यं गङ्गास्नान फलं लभेत ।।

अर्थ: तिथि के श्रवण से लक्ष्मी प्राप्त होती है, वारों के श्रवण से आयु बढती है, नक्षत्र श्रवण से पापों का` नाश होता है, योग श्रवण से रोग दूर होता है, करण श्रवण से निर्धारित कार्य साध्य होते हैं। उत्तम फल है इस पंचांग श्रवण का । नित्य श्रवण से गंगा की फली मिलती है।’

नीम के पत्तों का प्रसाद

संवत्सरम् की शुरुआत के दिन नीम का प्रसाद खाया जाता है, क्योंकि नीम में किसी भी अन्य पदार्थ की तुलना में प्रजापति तरंगों को ग्रहण करने की क्षमता अधिक होती है। नीम के फूल, कोमल पत्ते, भीगे हुए चने की दाल या भीगे हुए चने, शहद, जीरा और थोड़ी हींग को एक साथ मिलाकर इस प्रसाद को बनाकर सभी में बांट दें।

जमीन की जुताई

संवत्सरम्भ के दिन भूमि पर हल चलाना चाहिए। जुताई से नीचे की मिट्टी ऊपर आ जाती है। मिट्टी के सूक्ष्म कणों पर प्रजापति तरंगों के संस्कार से पृथ्वी की बीज अंकुरित करने की क्षमता कई गुना बढ़ जाती है। खेती के औजारों और बैलों पर तरंग उत्पन्न करने वाले अक्षत मंत्र के साथ प्रजापति को भी डालें। खेतों में काम करने वाले लोगों को नए कपड़े दिए जाने चाहिए। इस दिन खेतों में काम करने वाले लोगों और बैलों के भोजन में पका हुआ कुम्हाड़ा, मूंग दाल, चावल, पूरन आदि शामिल होना चाहिए।

सुखदायक रचना

इस दिन को विभिन्न प्रकार के शुभ गीतों, वाद्ययंत्रों और पुण्य पुरुषों की कहानियों को सुनकर खुशी-खुशी बिताएं। वर्तमान में, उत्सव मनाने की अवधारणा, अर्थात् मौज-मस्ती करने का दिन, बनाया गया है; हिंदू शास्त्रों के अनुसार, त्योहार का अर्थ है ‘अधिक चेतना देने का दिन। इसलिए पर्व के दिन सात्त्विक भोजन, सात्त्विक पोशाक और अन्य धार्मिक कार्य आदि करने के साथ-साथ शास्त्रों में सुखमय कर्म करने की बात कही गई है। त्योहार, धार्मिक समारोह के दिन या संवत्सर की शुरुआत के शुभ दिन पर नए या रेशम के आभूषण पहनकर देवता का आशीर्वाद प्राप्त किया जाता है। कपड़े में आकर्षक तत्व लंबे समय तक रहता है और इस कपड़े को पूरे साल पहनने से देवता तत्व का लाभ पूरे साल मिलता है।

संवत्सरमी के दिन की जाने वाली प्रार्थना

हे भगवान, आज मेरे लिए आप से आने वाले अधिकतम आशीर्वाद और ब्रह्मांड से आने वाली सात्विक तरंगों को प्राप्त करना संभव है। मुझमें इन तरंगों को ग्रहण करने की क्षमता नहीं है। मैं पूरी तरह से आपके चरणों में शरण लेता हूं। आप मुझे इन सात्त्विक तरंगों को ग्रहण करने की क्षमता प्रदान करें, यह आपके चरणों में प्रार्थना है!

Add a Comment

Your email address will not be published.