प्राइवेट बैंक अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड करोड़ों की ठगी कर गायब हुआ नगीना, यूपी में

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश में नगीना के मोहल्ला लाल सराय में पांच साल से ‘अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड’ नाम से एक निजी बैंक चल रहा था, जिसमें आसपास के गांव के लोग अपनी गाढ़ी कमाई की रकम जमा करते थे। बैंक में रूपये जमा करने के लिए कुछ एजेंटों को भी काम पर लगाया

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश में नगीना के मोहल्ला लाल सराय में पांच साल से ‘अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड’ नाम से एक निजी बैंक चल रहा था, जिसमें आसपास के गांव के लोग अपनी गाढ़ी कमाई की रकम जमा करते थे। बैंक में रूपये जमा करने के लिए कुछ एजेंटों को भी काम पर लगाया गया था, जो लोगों के खाते खुलवाते और पैसे जमा करवाते थे। जानकारी के मुताबिक, इस निजी बैंक को मोहम्मद फैजी नामक आदमी चला रहा था, जो अब करोड़ों रूपये लेकर चंपत हो चुका है।

पुलिस ने फैजी और उसके साथी के खिलाफ आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। लोगों से पैसा इकट्ठा करने वाले दो एजेंटों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है।

पुलिस के अनुसार, नगीना इलाके के सैकड़ों ग्रामीणों ने ’अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड’ के पास जमा की गई गाढ़ी कमाई को खो दिया है, जो मुसलमानों के लिए निजी तौर पर एक मोहम्मद फैजी के स्वामित्व वाली सुविधा है, ताकि वे अपना पैसा सुरक्षित तरीके से रख सकें।“

अब तक 170 शिकायतें दर्ज की जा चुकी हैं और पुलिस जमाकर्ताओं को हुए नुकसान का पता लगाने की प्रक्रिया में है।

नगीना के मोहल्ला लाल सराय में पांच साल से संस्था चल रही थी।

आरोपी फैजी ने गांवों में अधिक ग्राहक लाने के लिए कुछ एजेंटों को भी नियुक्त किया था।

पुलिस सूत्रों ने कहा कि फैजी ने कई करोड़ रुपये जमा किए होंगे।

प्रारंभिक जांच में पता चला है कि गायब होने से पहले उसने चुपचाप नगीना कस्बे में अपना घर बेच दिया था।

शरीयत में निवेश पर ब्याज अर्जित करना या भुगतान करना गैर-इस्लामी माना जाता है और कई मुस्लिम परिवार बैंकों में अपना पैसा जमा करने से कतराते हैं और ब्याज मुक्त सुविधाओं की तलाश करते हैं जो ये निजी संस्थान ’मुस्लिम फंड बैंक’ के रूप में जाने जाते हैं।

नगीना स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) कृष्ण मुरारी ने कहा, “पुलिस ने फैजी और उसके साथी के खिलाफ आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। लोगों से पैसा इकट्ठा करने वाले दो एजेंटों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है।“

(एजेंसी इनपुट के साथ)

Add a Comment

Your email address will not be published.