दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन रोजाना 18 फेरे लेंगी

दिल्ली-वाराणसी हाई-स्पीड रेल कॉरिडोर मुंबई-अहमदाबाद कॉरिडोर के बाद भारत की दूसरी बुलेट ट्रेन परियोजना है। 958 किलोमीटर का हाई-स्पीड रेल कॉरिडोर वाराणसी और दिल्ली के बीच 12 स्टेशनों से होकर गुजरेगा, जिसमें 123 किलोमीटर का स्पर लखनऊ और अयोध्या को जोड़ेगा। इस प्रोजेक्ट पर जोर शोर से काम चल रहा है।

सर्वेक्षण के अलावा, परियोजना के लिए मार्ग व्यवहार्यता परीक्षण भी लगभग किया जा चुका है। दिल्ली और वाराणसी के बीच बुलेट ट्रेन के ठहराव के लिए स्टेशनों का निर्माण अभी चल रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन रूट पर एलिवेटेड ट्रैक बनाए जाएंगे। कई इलाकों में अंडरग्राउंड स्टेशन बनाने की योजना है। बुलेट ट्रेन के लिए अलग ट्रैक बिछाए जाएंगे और स्पेशल स्टेशन बनाए जाएंगे। अयोध्या और आगरा को भी हाई स्पीड रेल नेटवर्क से जोड़ने की योजना है।

जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के खुलने से यात्रियों की आवाजाही में तेजी से इजाफा होगा। यात्रियों की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने के लिए जेवर के पास बुलेट ट्रेन स्टेशन बनाने की योजना है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली और वाराणसी के बीच बुलेट ट्रेन रूट में कुल 12 स्टेशन होंगे।

बुलेट ट्रेन दिल्ली और वाराणसी के बीच प्रतिदिन 18 फेरे लगाएगी। दिल्ली-आगरा के बीच 63, लखनऊ के 43 और दिल्ली-अयोध्या के बीच 11 फेरे होंगे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस हाई-स्पीड रेल प्रोजेक्ट की लागत 2.3 लाख करोड़ रुपये से अधिक होगी। बुलेट ट्रेन का रूट चार्ट इस तरह तैयार किया गया है कि इसमें उत्तर प्रदेश के प्रमुख तीर्थ स्थलों को शामिल किया गया है.

Add a Comment

Your email address will not be published.