जीवन शैली

संकष्टी चतुर्थी को भगवान गणेश की पूजा के लिए विशेष दिन माना जाता है

Published by
CoCo

संकष्टी चतुर्थी व्रत: संकष्टी चतुर्थी हिंदू धर्म में एक लोकप्रिय त्योहार है। हिंदू धर्म में किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले भगवान गणेश की पूजा जरूरी मानी जाती है। भगवान गणेश सभी देवी-देवताओं में प्रमुख देवता के रूप में पूजनीय हैं। देवी-देवताओं को प्रसन्न करने के लिए तरह-तरह के व्रत और उपवास रखे जाते हैं। भगवान गणेश को समर्पित संकष्टी चतुर्थी व्रत प्रचलित है। चतुर्थी महीने में दो बार आती है।

संकष्टी चतुर्थी को भगवान गणेश की पूजा के लिए विशेष दिन माना जाता है। इस माह की संकष्टी चतुर्थी 30 नवंबर को मनाई जाएगी। ‘संकष्टी चतुर्थी’ शब्द का अर्थ चौथा दिन है जो बाधाओं को दूर करता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान गणेश की पूजा करने से सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है। चतुर्थी के दिन सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक व्रत रखने की सलाह दी जाती है।

संकष्टी चतुर्थी पूजा विधि:

संकष्टी चतुर्थी पर भगवान गणेश का आशीर्वाद पाने के लिए सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करें और व्रत का संकल्प लें। इस दिन लाल रंग के कपड़े पहनना बहुत शुभ माना जाता है। साफ कपड़े पहनने के बाद भगवान गणेश की पूजा शुरू करें। पूजा के दौरान उपासक का मुख पूर्व या उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए। भगवान गणेश की मूर्ति को फूलों से सजाएं। पूजा के दौरान प्रसाद में तिल, गुड़, लड्डू, फूल, तांबे के बर्तन में पानी, धूप, चंदन और केला या नारियल जैसे फल शामिल होते हैं।

जानिए संकष्ट चतुर्थी और उसके प्रभाव के बारे में

पूजा के दौरान भगवान गणेश की मूर्ति के पास देवी दुर्गा की मूर्ति या तस्वीर रखना बेहद शुभ माना जाता है। भगवान गणेश को लाल सिन्दूर लगाएं, फूल चढ़ाएं और आरती करें। संकष्टी का प्रसाद लड्डू और मोदक हैं। भगवान गणेश के मंत्र का जाप करें. व्रत रखने वालों को पूजा के बाद केवल फल, मूंगफली, खीर, दूध या साबूदाना ही खाना चाहिए। शाम को चंद्रोदय से पहले भगवान गणेश की पूजा करें और संकष्टी व्रत कथा का पाठ करें। रात को चंद्रमा देखने के बाद यह व्रत खोला जाता है।

संकष्टी चतुर्थी का महत्व:

मान्यता है कि संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान गणेश की पूजा करने से घर से नकारात्मक प्रभाव दूर होते हैं और शांति बनी रहती है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान गणेश सभी विपत्तियों को दूर करते हैं और भक्त की इच्छाओं को पूरा करते हैं। इस दिन चंद्रमा का दर्शन करना शुभ माना जाता है। व्रत सूर्योदय के बाद और चंद्रोदय के बाद समाप्त होता है।

CoCo

Recent Posts

हरियाणा पुलिस ने हिंसा में शामिल किसान प्रदर्शनकारियों के पासपोर्ट और वीजा रद्द करने का फैसला किया है

हरियाणा पुलिस ने पंजाब-हरियाणा सीमा पर हिंसा और सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने में शामिल…

4 days ago

टाटा चिप इकाई फरवरी में अपनी सेमीकंडक्टर चिप की घोषणा करेगी “यह एक बड़ा निवेश होगा”

चेन्नई: टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने बुधवार को कहा कि समूह "बहुत जल्द"…

4 days ago

चीन ने पाकिस्तान को 2 अरब डॉलर का ऋण दिया

कार्यवाहक वित्त मंत्री शमशाद अख्तर ने गुरुवार को रॉयटर्स को दिए जवाब में इसकी पुष्टि…

4 days ago

चीन से भारत की बढ़ती निर्यात हिस्सेदारी पीएम मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ के लिए एक बढ़ावा है

एक नए अध्ययन से पता चलता है कि भारत कुछ प्रमुख बाजारों में इलेक्ट्रॉनिक्स निर्यात…

5 days ago

अकबरनगर : हाइकोर्ट ने व्यावसायिक प्रतिष्ठान मालिकों की याचिका खारिज कर दी

अदालत ने कहा, याचिकाकर्ताओं ने खुद को झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाला बताया और सही तथ्य…

5 days ago

“मैं मलाला नहीं हूं, मैं भारत में आज़ाद हूं”: ब्रिटिश संसद में कश्मीरी पत्रकार याना मीर

जम्मू-कश्मीर की सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार याना मीर को ब्रिटेन की संसद में विविधता राजदूत…

1 week ago