जीवन शैली

करवा चौथ : यहां जानिए क्यों माना जाता है प्रेम जीवन का प्रतीक – ‘करवा चौथ’

Published by
CoCo
Karwa Chauth 2021: Here’s Why is it considered a symbol of love life – ‘Karva Chauth’

व्रतेन दीक्षामाप्नोति दीक्षयाऽऽप्नोति दक्षिणाम् ।
दक्षिणा श्रद्धामाप्नोति श्रद्धया सत्यमाप्यते ।। 

अर्थ : व्रत धारण करने से मनुष्य दीक्षित होता है। दीक्षा से उसे दक्षता, निपुणता प्राप्त होता है। दक्षता की प्राप्ति से श्रद्धा का भाव जागृत होता है और श्रद्धा से ही सत्य स्वरूप ब्रह्म की प्राप्ति होती है। 

भारतीय संस्कृति का लक्ष्य
भारतीय संस्कृति का यह लक्ष्य है कि, जीवन का प्रत्येक क्षण व्रत, पर्व और उत्सवों के आनंद एवं उल्लास से परिपूर्ण हो। इन में हमारी संस्कृति की विचारधारा के बीज छिपे हुए हैं। यदि भारतीय नारी के समूचे व्यक्तित्व को केवल दो शब्दों में मापना हो तो ये शब्द होंगे- तप एवं करुणा। हम उन महान ऋषि-मुनियों के श्रीचरणों में कृतज्ञता पूर्वक नमन करते है कि, उन्होंने हमें व्रत, पर्व तथा उत्सव का महत्त्व बताकर मोक्ष मार्ग की सुलभता दिखाई। हिन्दू नारियों के लिए ‘करवा चौथ’का व्रत अखंड सुहाग को देने वाला माना जाता है। इस वर्ष करवा चौथ 24 अक्टूबर को है। 

पति की दीर्घायु एवं उत्तम स्वास्थ्य की मंगलकामना के लिए होता है ये व्रत
विवाहित स्त्रियां इस दिन अपने पति की दीर्घायु एवं उत्तम स्वास्थ्य की मंगलकामना करके भगवान चंद्रमा को अर्घ्य अर्पित कर व्रत का समापन करती हैं। स्त्रियों में इस दिन के प्रति इतना अधिक श्रद्धा भाव होता है कि वे कई दिन पूर्व से ही इस व्रत की तैयारी प्रारंभ करती हैं। यह व्रत कार्तिक कृष्ण की चंद्रोदय व्यापिनी चतुर्थी को किया जाता है, यदि वह दो दिन चंद्रोदय व्यापिनी हो अथवा दोनों ही दिन न हो तो पूर्वविद्धा लेनी चाहिए। करक चतुर्थी को ही ‘करवाचौथ’ भी कहा जाता है। 

हिंदू संस्कृति के पवित्र बंधन का प्रतीक
वास्तव में करवा चौथ का व्रत हिंदू संस्कृति के उस पवित्र बंधन का प्रतीक है, जो पति-पत्नी के बीच होता है । हिंदू संस्कृति में पति को परमेश्वर की संज्ञा दी गई है ।करवा चौथ पति एवं पत्नी दोनों के लिए नव प्रणय निवेदन तथा एक-दूसरे के लिए अपार प्रेम, त्याग, एवं उत्सर्ग की चेतना लेकर आता है । इस दिन स्त्रियां पूर्ण सुहागिन का रूप धारण कर, वस्त्राभूषणों को पहनकर भगवान रजनी नाथ से अपने अखंड सुहाग की प्रार्थना करती हैं । स्त्रियां सुहाग चिन्हों से युक्त शृंगार करके ईश्वर के समक्ष दिनभर के व्रत के उपरांत यह प्रण लेती हैं कि, वे मन, वचन एवं कर्म से पति के प्रति पूर्ण समर्पण की भावना रखेंगी ।

शिव-पार्वती एवं कार्तिकेय की भी होती है इस दिन पूजा
कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चौथ को केवल रजनीनाथ की पूजा नहीं होती; अपितु शिव-पार्वती एवं स्वामी कार्तिकेय की भी पूजा होती है। शिव-पार्वती की पूजा का विधान इस हेतु किया जाता है कि जिस प्रकार शैलपुत्री पार्वती ने घोर तपस्या करके भगवान शिव को प्राप्त कर अखंड सौभाग्य प्राप्त किया, वैसा ही उन्हें भी मिले। वैसे भी गौरी- पूजन का कुवारी और विवाहित स्त्रियों के लिए विशेष महात्म्य है। 

CoCo

Recent Posts

‘पठान’ की समीक्षा: विवादों के बीच शाहरुख खान-स्टारर पठान ‘ब्लॉकबस्टर’

शाहरुख खान की पठान आखिरकार 25 जनवरी, 2023 को सिनेमाघरों में उतरेगी। पहले दिन के…

2 days ago

क्या आप जानते हैं किसी की मौत के बाद पैन और आधार कार्ड का क्या करें?

आधार कार्ड और पैन कार्ड को अब भारत में एक अनिवार्य दस्तावेज माना जाता है।…

3 days ago

चंद्रशेखर के फाइजर ‘झूठ’ पर कांग्रेस ने ट्विटर पर लिखा पत्र, मंत्री से माफी की मांग की

कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर के उस ट्वीट के खिलाफ सोशल मीडिया दिग्गज ट्विटर…

3 days ago

‘पराक्रम दिवस’: आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा, भारत को महान बनाने के नेताजी के सपने को पूरा करेंगे

नई दिल्ली: नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 126वीं जयंती पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने…

4 days ago

घर वापसी सुनिश्चित करेंगे, धर्म परिवर्तन रोकेंगे : बागेश्वर धाम पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री

अपने विवादित बयानों से सुर्खियों में रहने वाले बागेश्वर धाम पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने…

5 days ago

Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी ने पहली बार जैकेट पहनी

कड़ाके की ठंड में सिर्फ एक टी-शर्ट पहनकर उत्तर भारत की यात्रा करने वाले कांग्रेस…

7 days ago