जीवन शैली

यहां बताया गया है कि भगवान राम के पुत्र राजा कुश द्वारा कैसे बनाया गया नागेश्वरनाथ मंदिर

Published by
CoCo
Here’s how the Nageshwarnath temple built by King Kush, the son of Lord Rama

पुण्य सलिला सरयू नदी के किनारे स्थापित प्राचीन नागेश्वरनाथ मंदिर इस बात का द्योतक भी है कि जिस स्थान पर भगवान नागेश्वरनाथ का मंदिर है वही प्राचीन अयोध्या है। इस पौराणिक नगरी को राजा विक्रमादित्य ने बसाया था और इस प्राचीन मंदिर का जीर्णोद्धार भी उन्हीं के द्वारा कराया गया था। धार्मिक मान्यताओं में आज भी बाबा नागेश्वरनाथ अयोध्या की पहचान के रुप में जाने जाते हैं और देश के कोने कोने से आने वाले भक्त श्रद्धालुओं के लिए आस्था और श्रद्धा का केंद्र है।

भगवान नागेश्वरनाथ के दर्शन-पूजन का महत्व
भगवान शिव का यह प्राचीन मंदिर अयोध्या में स्थापित होने के कारण इसका महत्व और भी अधिक है और सावन मास में इस प्राचीन मंदिर में भगवान शिव का वंदन और पूजन करने से जन्म जन्मांतर के कष्ट मिट जाते हैं और मनुष्य को पुण्य की प्राप्ति होती है। इसलिए अगर आप भी सावन के इस पवित्र माह में भगवान शिव की आराधना कर पुण्य अर्जन करना चाहते हैं तो बिना देर किए पहुंच जाएं राम की नगरी अयोध्या और सरयू तट के किनारे स्थापित भगवान नागेश्वरनाथ का दर्शन और पूजन करें।

भगवान राम के पुत्र राजा कुश ने की थी मंदिर की स्थापना
शिव पुराण के अनुसार, एक बार नौका बिहार करते समय भगवान राम के पुत्र राजा कुश के हाथ का कंगन पवित्र सरयू में गिर गया, जो सरयू में वास करने वाले कुमुद नाग की पुत्री को मिल गया। यह कंगन वापस लेने के लिए राजा कुश तथा नाग कुमुद के मध्य घोर संग्राम हुआ। जब नाग को यह लगा कि वह यहां पराजित हो जायेगा तो उसने भगवान शिव का ध्यान किया। भगवान ने स्वयं प्रकट होकर इस युद्ध को रुकवाया। कुमुद ने कंगन देने के साथ भगवान शिव से अनुरोध किया कि उनकी पु्त्री कुमुदनी का विवाह कुश के साथ करा दें। इस प्रस्ताव को महाराज कुश ने स्वीकार किया और भगवान शिव से यह अनुरोध किया कि वे स्वयं सर्वदा यहीं वास करें। भगवान शिव ने उनकी इस याचना को स्वीकार कर लिया। नागों के ध्यान करने पर भगवान शिव प्रकट हुए थे, जिस कारण इसे नागेश्वर नाथ के नाम से जाना जाता है। इसके बाद राजा कुश ने अयोध्या में नागेश्वर नाथ मंदिर की स्थाापना की, जो आज भी पूरे देश में रहने वाले शिव भक्तों की आस्था का केंद्र है।

अंग्रेजों ने भी माना भगवान शिव के नागेश्वरनाथ रूप को
अयोध्या की राम की पैड़ी खेत्र में स्थित प्राचीन नागेश्वरनाथ महादेव की महीमा अपरम्पार है। उनकी महिमा का बखान न केवल हिन्दू भक्तों ने बल्कि अंग्रेजों ने भी किया है। अंग्रेजी विद्वान विंसेटस्मिथ ने लिखा कि 27 आक्रमणों को झेल कर भी यह मंदिर अपनी अखंण्डता को बनाये रखे है। हैमिल्टान ने लिखा है कि पूरे विश्व में इसके समान दिव्य और पवित्र स्थान दूसरा कोई नहीं है।

CoCo

Recent Posts

पथराव: भारत में 2022 में चलती ट्रेनों में 1,500 से अधिक मामले देखने को मिलेंगे, आरपीएफ ने खुलासा किया

नई दिल्ली: रेलवे ने बुधवार को कहा कि 2022 में देश भर में चलती ट्रेनों…

6 hours ago

आज हुआ था भगवान सूर्य का जन्म, जानें पुराणों में महात्म

आज 28 जनवरी 2023 शनिवार को माघ शुक्ल सप्तमी है। इस दिन को अचला सप्तमी,…

7 hours ago

भारतीय मूल के नासा पायलट राजा चारी को अमेरिकी वायुसेना के ब्रिगेडियर जनरल के लिए नामांकित

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन द्वारा प्रतिष्ठित पद के लिए नासा के अंतरिक्ष यात्री राजा जे…

7 hours ago

‘नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव को इसलिए चुना क्योंकि…’: बिहार के सीएम पर प्रशांत किशोर की ताजा टिप्पणी

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने एक बार फिर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राजनीतिक…

7 hours ago

आर्यन खान ड्रग्स मामले की जांच करने वाले आईपीएस को राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया गया

आर्यन खान ड्रग्स मामले की जांच का नेतृत्व करने वाले आईपीएस संजय कुमार सिंह को…

1 day ago

सिंधु जल संधि पर भारत ने पाकिस्तान को भेजा नोटिस

समाचार एजेंसी ने शुक्रवार को सूत्रों के हवाले से बताया कि भारत ने सिंधु जल…

1 day ago